बोतलबंद पानी से हो जाएं सावधान, 90% नमूनों में मिले प्लास्टिक के कड़

बोतलबंद पानी, water bottle
अगर आप भी पीते हैं बोतलबंद पानी तो हो जाएं सावधान, रिसर्च में मिला 93% प्लास्टिक के कड़

नई दिल्ली। ज़्यादातर शुद्ध पानी पीने के लिए लोग जब भी घर से बाहर होते हैं तो वह बोतलबंद पानी लेते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि बोतलबंन्द पानी कितना शुद्ध है? क्या आप जानते हैं कि बोतलबंद पानी पीने से हमारे शरीर को क्या नुकसान होता है? आज हम आपको बता दें कि आप जिसे शुद्ध और स्वछ समझ कर खरीद रहें है और उसका सेवन कर रहे हैं उसमें प्लास्टिक के अवशेष हो सकते हैं। एक स्टडी के अनुसार, दुनिया भर से लिए गए बोतलबंद पानी के 90 प्रतिशत नमूनों में प्लास्टिक के अवशेष पाए गए। न्यूयॉर्क स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने 9 देशों में बेचे जा रहे 11 ब्रैंड्स की 259 बोतलों का परीक्षण किया। भारत के अलावा चीन, अमेरिका, ब्राजील, इंडोनेशिया, केन्या, लेबनान, मैक्सिको और थाईलैंड के बोतलबंद पानी के नमूनों का विश्लेषण किया गया। स्पेक्ट्रोस्कोपिक जांच के दौरान एक लीटर पानी की बोतल में औसत रूप से 10.4 माइक्रोप्लास्टिक कण पाए गए। यह पिछली बार के सर्वे में नल के पानी में पाए गए प्लास्टिक के कणों से दोगुना है।

इस बारे में शोधकर्ताओं का मानना है कि माइक्रोप्लास्टिक से विश्व स्तर पर 90 प्रतिशत बोतल बंद पानी में प्रदूषण बढ़ा है। प्लास्टिक के जो अवशेष पाए गए हैं इसमें पॉलीप्रोपलीन, नायलॉन और पॉलीथिलीन टेरेफ्थेलेट जैसे तत्व पाए गए हैं। इनका इस्तेमाल बोतल का ढक्कन बनाने में होता है। शोधकर्ता का मानना है कि पानी में ज्यादातर प्लास्टिक पानी को बोतल में भरते समय आता है, यह बोतल और उसके ढक्कन से आ सकता है।

{ यह भी पढ़ें:- PM मोदी ने कहा- जितना ज्यादा 'दल-दल' होता है, उतना ज्यादा कमल खिलता है }

शोधकर्ताओं ने स्पेक्ट्रोस्कोपिक विश्लेषण के बाद पाया कि 1 लीटर की पानी की बोतल में औसत रूप से 10.4 माइक्रोप्लास्टिक के कण होते हैं। पूर्व अध्ययन के अनुसार यह नल के पानी में पाए जाने वाले माइक्रोप्लास्टिक के कण से दोगुने ज्यादा होते हैं। इस स्टडी में एक्वाफीना, डासानी, इवियान, नेस्ले प्योर लाइफ और सेन पेलेग्रिनो शामिल हैं। अध्ययन में विभिन्न देशों के जिन नैशनल ब्रैंड्स को शामिल किया गया है, उनमें एक्वा (इंडोनेशिया), बिसलेरी (इंडिया), ईप्यूरा (मैक्सिको), गेरोलस्टीनर (जर्मनी), मिनालाबा (ब्राजील) और वाहाहा (चीन) शामिल हैं।

नई दिल्ली। ज़्यादातर शुद्ध पानी पीने के लिए लोग जब भी घर से बाहर होते हैं तो वह बोतलबंद पानी लेते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि बोतलबंन्द पानी कितना शुद्ध है? क्या आप जानते हैं कि बोतलबंद पानी पीने से हमारे शरीर को क्या नुकसान होता है? आज हम आपको बता दें कि आप जिसे शुद्ध और स्वछ समझ कर खरीद रहें है और उसका सेवन कर रहे हैं उसमें प्लास्टिक के अवशेष हो सकते हैं। एक स्टडी…
Loading...