खुलासा: बाइक की ईएमआई के लिए ड्राइवर ने की थी HDFC BANK के वाइस प्रेसीडेंट की हत्या

hdfc vice president murder
खुलासा: बाइक की ईएमआई के लिए ड्राइवर ने की थी HDFC BANK के वाइस प्रेसीडेंट की हत्या

मुंबई। मुंबई पुलिस ने बीते पांच सितंबर को हुई एचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेसीडेंट की हत्या के मामले में ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्त में आने वाले सरफराज शेख ने बताया कि उसकी बाइक की ईएमआई के लिए उसके पास पैसे नही थे, जिसके चलते उसने ये घटना अंजाम दी है।

Driver Killed Vice President Of Hdfc Bank Fo 30 Thousands Rupees :

उसने पुलिस को दिए बयान में कहा, ‘जो हुआ वो हुआ सर, मैंने ही किया है। गाड़ी की ईएमआई और पैसे का दबाव था और मैं देखता था उनको ऊपर नीचे जाते।’ पुलिस की पूछताछ में सरफरारज ने बताया कि पहले उसने सिंघवी का गला दबाया और फिर कई बार छूरा घोंपा। बाद में उनके शव को गाड़ी के पीछे वाली सीट पर रख दिया। आरोपी के पास सिंघवी का फोन भी था जिसकी वजह से ही वह पकड़ा गया है। कहा जा रहा है कि सिंघवी ऑफिस से 8 बजे निकले थे और उनकी गाड़ी पार्किंग एरिया से 11.20 पर निकली। उस तीन घंटे के दौरान उनके साथ क्या-क्या हुआ यह जानने के लिए पुलिस जांच कर रही है।

बता दे कि शेख ने 30 हजार की लूट के लिए हत्या की थी। यह कॉन्ट्रैक्ट पर कराई गई हत्या नहीं थी। पुलिस ने सिंघवी का शव कल्याण हाईवे से बरामद किया गया। मामले पर डिप्टी पुलिस कमिश्नर अभिनाश कुमार का कहना है कि पुलिस ने प्राइवेट ड्राइवर सरफराज शेख को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि सिंघवी (37) अपने कमला मिल स्थित ऑफिस की पार्किंग से 5 सितंबर को लापता हो गए थे। जब वह समय पर रोज की तरह घर नहीं पहुंचे तो उनके परिवार ने बुधवार की ही रात एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन में उनके लापता होने की शिकायत दर्ज कराई। सिंघवी अपने बेटे और पत्नी के साथ साउथ मुंबई के मलाबार हिल में रहते थे।

मुंबई। मुंबई पुलिस ने बीते पांच सितंबर को हुई एचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेसीडेंट की हत्या के मामले में ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्त में आने वाले सरफराज शेख ने बताया कि उसकी बाइक की ईएमआई के लिए उसके पास पैसे नही थे, जिसके चलते उसने ये घटना अंजाम दी है। उसने पुलिस को दिए बयान में कहा, 'जो हुआ वो हुआ सर, मैंने ही किया है। गाड़ी की ईएमआई और पैसे का दबाव था और मैं देखता था उनको ऊपर नीचे जाते।' पुलिस की पूछताछ में सरफरारज ने बताया कि पहले उसने सिंघवी का गला दबाया और फिर कई बार छूरा घोंपा। बाद में उनके शव को गाड़ी के पीछे वाली सीट पर रख दिया। आरोपी के पास सिंघवी का फोन भी था जिसकी वजह से ही वह पकड़ा गया है। कहा जा रहा है कि सिंघवी ऑफिस से 8 बजे निकले थे और उनकी गाड़ी पार्किंग एरिया से 11.20 पर निकली। उस तीन घंटे के दौरान उनके साथ क्या-क्या हुआ यह जानने के लिए पुलिस जांच कर रही है। बता दे कि शेख ने 30 हजार की लूट के लिए हत्या की थी। यह कॉन्ट्रैक्ट पर कराई गई हत्या नहीं थी। पुलिस ने सिंघवी का शव कल्याण हाईवे से बरामद किया गया। मामले पर डिप्टी पुलिस कमिश्नर अभिनाश कुमार का कहना है कि पुलिस ने प्राइवेट ड्राइवर सरफराज शेख को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि सिंघवी (37) अपने कमला मिल स्थित ऑफिस की पार्किंग से 5 सितंबर को लापता हो गए थे। जब वह समय पर रोज की तरह घर नहीं पहुंचे तो उनके परिवार ने बुधवार की ही रात एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन में उनके लापता होने की शिकायत दर्ज कराई। सिंघवी अपने बेटे और पत्नी के साथ साउथ मुंबई के मलाबार हिल में रहते थे।