एसपी के घर में चल रहा था ड्रग्स का कारोबार, छापेमारी में पकड़ी गई 400 करोड़ रुपये की ड्रग्स

delhi ncr
एसपी के घर में चल रहा था ड्रग्स का कारोबार, छापेमारी में पकड़ी गई 400 करोड़ रुपये की ड्रग्स

नोएडा। दिल्ली से सटे यूपी के नोएडा में नारकोटिक्स ​कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने एक एसपी के मकान में छापेमारी की। इस दौरान मकान से 1800 किलो ड्रग्स बरामद हुआ है। बरामद ड्रग्स की कीमत करीब 400 करोड़ रुपये बताई जा रही है। एनसीबी ने दावा किया है कि देश में पकड़ी गई ड्रग्स की अब तक की सबसे बड़ी खेप है।

Drugs Factory Was Running From Sps House In Up :

एसपी के मकान में विदेशी नागरकिों के द्वारा नशे का कारोबार चलाया जा रहा था। बावजूद इसके स्थानीय पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। इस मामले में दक्षिण अफ्रीकी मूल की एक महिला समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। महिला ने पूछताछ में बताया कि ग्रेनो से ड्रग्स की सप्लाई दिल्ली-एनसीआर व विदेशों में होती थी।

ग्रेटर नोएडा के सेक्टर पी-4 का मकान नंबर ए-76 एसपी डीपीएन पांडे का है। बताया जा रहा है कि करीब तीन वर्ष पूर्व एक गौरव नाम के व्यक्ति ने आरोपियों को एसपी का मकान किराये पर दिलवाया था। गौरव ने ही ब्रूनों का वेरीफिकेशन कराया था। ब्रूनों द्वारा मकान का किराया ऑनलाइन जमा किया जाता था।

स्थानीय लोगों ने पुलिस को बताया कि किराये पर रहने वाला ब्रूनों दिन में बहुत कम ही मकान के बाहर निकलता था। रात के समय उसके पास अक्सर लोग आते थे, जिसमें विदेशी लड़कियां भी यहां आतीं थीं। स्थानीय लोगों का कहना है कि ब्रूनों अक्सर पास के दुकान में पानी की बोतल और अण्डा खरीदने आता था। बताया जा रहा है कि स्थानीय पुलिस को जानकारी थी कि यह मकान एसपी का है, जिसके कारण पुलिस वहां पर नहीं आती थी।

नोएडा। दिल्ली से सटे यूपी के नोएडा में नारकोटिक्स ​कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने एक एसपी के मकान में छापेमारी की। इस दौरान मकान से 1800 किलो ड्रग्स बरामद हुआ है। बरामद ड्रग्स की कीमत करीब 400 करोड़ रुपये बताई जा रही है। एनसीबी ने दावा किया है कि देश में पकड़ी गई ड्रग्स की अब तक की सबसे बड़ी खेप है। एसपी के मकान में विदेशी नागरकिों के द्वारा नशे का कारोबार चलाया जा रहा था। बावजूद इसके स्थानीय पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। इस मामले में दक्षिण अफ्रीकी मूल की एक महिला समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। महिला ने पूछताछ में बताया कि ग्रेनो से ड्रग्स की सप्लाई दिल्ली-एनसीआर व विदेशों में होती थी। ग्रेटर नोएडा के सेक्टर पी-4 का मकान नंबर ए-76 एसपी डीपीएन पांडे का है। बताया जा रहा है कि करीब तीन वर्ष पूर्व एक गौरव नाम के व्यक्ति ने आरोपियों को एसपी का मकान किराये पर दिलवाया था। गौरव ने ही ब्रूनों का वेरीफिकेशन कराया था। ब्रूनों द्वारा मकान का किराया ऑनलाइन जमा किया जाता था। स्थानीय लोगों ने पुलिस को बताया कि किराये पर रहने वाला ब्रूनों दिन में बहुत कम ही मकान के बाहर निकलता था। रात के समय उसके पास अक्सर लोग आते थे, जिसमें विदेशी लड़कियां भी यहां आतीं थीं। स्थानीय लोगों का कहना है कि ब्रूनों अक्सर पास के दुकान में पानी की बोतल और अण्डा खरीदने आता था। बताया जा रहा है कि स्थानीय पुलिस को जानकारी थी कि यह मकान एसपी का है, जिसके कारण पुलिस वहां पर नहीं आती थी।