अरबों के धोखाधड़ी में फंसे दो भारतीय, दुबई कोर्ट ने सुनाई 500 साल की सजा  

sydney lemos
अरबों के धोखाधड़ी में फंसे दो भारतीय, दुबई कोर्ट ने सुनाई 500 साल की सजा  

दुबई कोर्ट ने 2 भारतीयों  को 500 साल की सजा सुनाई है। गोवा के रहने  सिडनी लिमोस (37) और उनके अकाउंट स्पेशलिस्ट  रियान डिसूजा (25)को 200 मिलियन डॉलर के घोटाले में हजारों निवेशकों को धोखा देने के मामले में यह सजा सुनाई गई है। 37 वर्षीय लीमोस और रयान डीसूजा (25) को एक पोंजी स्कीम में हजारों निवेशकों को ठगने का दोषी पाया गया है। इन दोनों ने निवेशकों से वादा किया था कि सिर्फ 25 हजार डॉलर के निवेश पर उन्हें 120 प्रतिशत का रिटर्न मिलेगा।

Dubai Court Sentences 2 Indians To 500 Years Each In Jail :

सचिन तेंदुलकर से लेकर रणबीर कपूर तक जान-पहचान

लिमोस 2015 में तब चर्चा में आया था जब उसकी कंपनी एफसी प्राइम मार्केट्स इंडियन सुपर लीग में गोवा फ्रेंचाइज की एफसी गोवा की स्पॉन्सर बनी। उसकी पहचान इस लीग से जुड़े बड़े चेहरों से भी थी, जिनमें मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से लेकर अभिषेक बच्चन और रणबीर कपूर तक शामिल हैं।

दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था

गोवा में रहने वाले लिमोस को इससे पहले दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था। लेकिन उसके बाद उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया था। हालांकि पिछले साल जनवरी में भी उसे एक बार फिर से गिरफ्तार किया गया था। वहीं सजोलिम के रहने वाले रियान को पिछले साल फरवरी में दुबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया गया था।

दुबई कोर्ट ने 2 भारतीयों  को 500 साल की सजा सुनाई है। गोवा के रहने  सिडनी लिमोस (37) और उनके अकाउंट स्पेशलिस्ट  रियान डिसूजा (25)को 200 मिलियन डॉलर के घोटाले में हजारों निवेशकों को धोखा देने के मामले में यह सजा सुनाई गई है। 37 वर्षीय लीमोस और रयान डीसूजा (25) को एक पोंजी स्कीम में हजारों निवेशकों को ठगने का दोषी पाया गया है। इन दोनों ने निवेशकों से वादा किया था कि सिर्फ 25 हजार डॉलर के निवेश पर उन्हें 120 प्रतिशत का रिटर्न मिलेगा।

सचिन तेंदुलकर से लेकर रणबीर कपूर तक जान-पहचान

लिमोस 2015 में तब चर्चा में आया था जब उसकी कंपनी एफसी प्राइम मार्केट्स इंडियन सुपर लीग में गोवा फ्रेंचाइज की एफसी गोवा की स्पॉन्सर बनी। उसकी पहचान इस लीग से जुड़े बड़े चेहरों से भी थी, जिनमें मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से लेकर अभिषेक बच्चन और रणबीर कपूर तक शामिल हैं।

दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था

गोवा में रहने वाले लिमोस को इससे पहले दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था। लेकिन उसके बाद उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया था। हालांकि पिछले साल जनवरी में भी उसे एक बार फिर से गिरफ्तार किया गया था। वहीं सजोलिम के रहने वाले रियान को पिछले साल फरवरी में दुबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया गया था।