आर्थिक तंगी के चलते बेरहम हो गया पिता, बेटे को लोहे की जंजीरों से जकड़ा

kah1_1593075517

कौशांबी. उत्तर प्रदेश में कौशांबी जिले से एक हैरान करने वाली खबर आई है। यहां एक पिता आर्थिक तंगी के चलते बेरहम हो गया है। उसने अपने ही बेटे को लोहे की जंजीरों से घर के पास स्थित एक पेड़ से जकड़ दिया है। आरोप है कि, बेटा पिता से भरपेट भोजन मांगता था। वह बिना कुछ बताए बाहर से घूम के आने के बाद घर में बना पूरा खाना खा जाता है। दो दिन बाद मामला पुलिस तक पहुंचा तो उसे मुक्त कराया गया है। पुलिस ने उसका मेडिकल भी कराया है।

Due To Financial Constraints The Father Became Cruel The Son Was Held With Iron Chains :

यह पूरा मामला सैनी थाना क्षेत्र अंतर्गत कस्बे का है। थाने से चंद कदम की दूरी पर एसएवी इंटर कालेज है। इसी के पीछे कंधई लाल का परिवार रहता है। यह परिवार खेती किसानी कर अपना पेट पलता है। पीड़ित बेटे विजय का आरोप है कि उसने अपने घर की रसोई में बना भोजन बिना घर के लोगों से पूछे खा लिया। इस बात से नाराज पिता ने उसे मंगलवार रात खूब मारा और फिर सुबह खेत के पास महुआ के पेड़ से जंजीरो से बांध दिया। वह जानवरों की तरह बंधा भूख प्यास से तड़प रहा है।

वहीं, पिता कंधई लाल का कहना है, उनका बेटा विजय बेहद बद्तमीज है। वह पूरे दिन कोई काम नहीं करता। घर के लोगों को बेवजह गालियां देता। बिना पूछे मंगलवार की रात का भोजन खा गया। किसी के लिए घर में खाना नहीं बचा। जब उससे यह पूछा गया कि, सबके हिस्से का खाना क्यों खाया तो गाली-गलौच करने लगा। जिसके कारण ऐसा कदम उठाना पड़ा है।

कौशांबी. उत्तर प्रदेश में कौशांबी जिले से एक हैरान करने वाली खबर आई है। यहां एक पिता आर्थिक तंगी के चलते बेरहम हो गया है। उसने अपने ही बेटे को लोहे की जंजीरों से घर के पास स्थित एक पेड़ से जकड़ दिया है। आरोप है कि, बेटा पिता से भरपेट भोजन मांगता था। वह बिना कुछ बताए बाहर से घूम के आने के बाद घर में बना पूरा खाना खा जाता है। दो दिन बाद मामला पुलिस तक पहुंचा तो उसे मुक्त कराया गया है। पुलिस ने उसका मेडिकल भी कराया है। यह पूरा मामला सैनी थाना क्षेत्र अंतर्गत कस्बे का है। थाने से चंद कदम की दूरी पर एसएवी इंटर कालेज है। इसी के पीछे कंधई लाल का परिवार रहता है। यह परिवार खेती किसानी कर अपना पेट पलता है। पीड़ित बेटे विजय का आरोप है कि उसने अपने घर की रसोई में बना भोजन बिना घर के लोगों से पूछे खा लिया। इस बात से नाराज पिता ने उसे मंगलवार रात खूब मारा और फिर सुबह खेत के पास महुआ के पेड़ से जंजीरो से बांध दिया। वह जानवरों की तरह बंधा भूख प्यास से तड़प रहा है। वहीं, पिता कंधई लाल का कहना है, उनका बेटा विजय बेहद बद्तमीज है। वह पूरे दिन कोई काम नहीं करता। घर के लोगों को बेवजह गालियां देता। बिना पूछे मंगलवार की रात का भोजन खा गया। किसी के लिए घर में खाना नहीं बचा। जब उससे यह पूछा गया कि, सबके हिस्से का खाना क्यों खाया तो गाली-गलौच करने लगा। जिसके कारण ऐसा कदम उठाना पड़ा है।