गांव की लड़की से है एथलीट दुती चंद के समलैंगिक रिश्ते, पार्टनर के बारे में बताने से किया इंकार

dutte chand
गांव की लड़की से है एथलीट दुती चंद के समलैंगिक रिश्ते, पार्टनर के बारे में बताने से किया इंकार

नई दिल्ली। एशियाई खेलों में भारत के लिए दो सिल्वर मेडल जीतने वाली एथलीट दुती चंद ने अपने समलैंगिक रिश्ते के बारे में बड़ा खुलासा किया है। दुती चंद ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को दिये गये इंटरव्यू में यह बातें कहीं। सार्वजनिक तौर पर इस तरह की बात स्वीकार करने वाली दुती देश की पहली एथलीट हैं।

Dutee Chand Same Sex Relationship Hometown Girl :

दुती चंद ने इंटरव्यू में बताया कि गांव चाका गोपालपुर (ओडिशा) की एक लड़की से उसके रिश्ते हैं। हालांकि दुती चंद ने अपनी महिला साथी की पहचान को सार्वजनिक नहीं किया है। वे नहीं चाहतीं कि उनकी पार्टनर फिजूल में लोगों की नजरों में आए। उन्होंने कहा कि मुझे ऐसा कोई मिला है, जो मेरा जीवनसाथी है।

दुती चंद ने कहा कि हर किसी ​को इसकी आजादी होनी चाहिए कि वह किसके साथ जीवन बिताना चाहता है। मैंने हमेशा उन लोगों के हक में आवाज उठाई है जो समलैंगिक रिश्तों में रहना चाहते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह अभी वर्ल्ड चैम्पियशिप और ओलंपिक खेलों की तैयारी में जुटी हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि वह भविष्य में उसके साथ घर बसाना चाहती हैं।

दुती ने कहा कि समलैंगिकता पर आए सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद उनके भीतर इस रिश्ते को सार्वजनिक करने की हिम्मत आई। किसी को भी मुझे जज करने का हक नहीं है। यह मेरी निजी पसंद है। इसका सम्मान किया जाना चाहिए। मैं देश के लिए पदक जीतने की कोशिश जारी रखूंगी। उन्होंने कहा कि वह दस साल से धावक हैं और अगले पांच से सात वर्षों तक दौड़ती रहेंगी।

उन्होंने कहा कि वह प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए पूरी दुनिया घूमती हैं, जो आसान नहीं है। इसके लिए किसी का सहारा चाहिए। गौरतलब है कि 2014 में कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान उन्हें अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ की हाइपरएंड्रोजेनिस्म पॉलिसी के तहत टेस्टोस्टोरेन (पुरुष हार्मोंस) की अधिक मात्रा पाए जाने के कारण निलंबित कर दिया गया था।

नई दिल्ली। एशियाई खेलों में भारत के लिए दो सिल्वर मेडल जीतने वाली एथलीट दुती चंद ने अपने समलैंगिक रिश्ते के बारे में बड़ा खुलासा किया है। दुती चंद ने 'द इंडियन एक्सप्रेस' को दिये गये इंटरव्यू में यह बातें कहीं। सार्वजनिक तौर पर इस तरह की बात स्वीकार करने वाली दुती देश की पहली एथलीट हैं। दुती चंद ने इंटरव्यू में बताया कि गांव चाका गोपालपुर (ओडिशा) की एक लड़की से उसके रिश्ते हैं। हालांकि दुती चंद ने अपनी महिला साथी की पहचान को सार्वजनिक नहीं किया है। वे नहीं चाहतीं कि उनकी पार्टनर फिजूल में लोगों की नजरों में आए। उन्होंने कहा कि मुझे ऐसा कोई मिला है, जो मेरा जीवनसाथी है। दुती चंद ने कहा कि हर किसी ​को इसकी आजादी होनी चाहिए कि वह किसके साथ जीवन बिताना चाहता है। मैंने हमेशा उन लोगों के हक में आवाज उठाई है जो समलैंगिक रिश्तों में रहना चाहते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह अभी वर्ल्ड चैम्पियशिप और ओलंपिक खेलों की तैयारी में जुटी हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि वह भविष्य में उसके साथ घर बसाना चाहती हैं। दुती ने कहा कि समलैंगिकता पर आए सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद उनके भीतर इस रिश्ते को सार्वजनिक करने की हिम्मत आई। किसी को भी मुझे जज करने का हक नहीं है। यह मेरी निजी पसंद है। इसका सम्मान किया जाना चाहिए। मैं देश के लिए पदक जीतने की कोशिश जारी रखूंगी। उन्होंने कहा कि वह दस साल से धावक हैं और अगले पांच से सात वर्षों तक दौड़ती रहेंगी। उन्होंने कहा कि वह प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए पूरी दुनिया घूमती हैं, जो आसान नहीं है। इसके लिए किसी का सहारा चाहिए। गौरतलब है कि 2014 में कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान उन्हें अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ की हाइपरएंड्रोजेनिस्म पॉलिसी के तहत टेस्टोस्टोरेन (पुरुष हार्मोंस) की अधिक मात्रा पाए जाने के कारण निलंबित कर दिया गया था।