द्वापर युग में की गई थी कलियुग को लेकर ये भविष्यवाणियाँ जो अब सच हो रही हैं !

आज जो कुछ घटित हो रहा है दरअसल उसकी भविष्यवाणी हजारों साल पहले ही की जा चुकी है. कलियुग से जुड़ी इन भविष्यवाणियों का जिक्र हमारे धार्मिक ग्रंथों और पुराणों में मिलता है.

हमारे धार्मिक पुराणों में श्रीमद्भागवत पुराण का खासा महत्व बताया जाता है क्योंकि इसी में कलियुग को लेकर कई भविष्यवाणियां की गई है. आपको जानकर हैरानी होगी क्योंकि श्रीमद्भागवत पुराण में आज से 5 हजार साल पहले जो भविष्यवाणियां की गई थीं वो आज सच साबित हो रही हैं.

{ यह भी पढ़ें:- महाभारत की लड़ाई में जब श्रीकृष्ण को 18 दिनों तक खानी पड़ी थी मूंगफली }

द्वापर युग की भविष्यवाणियाँ – 

1- द्वापर युग में श्रीकृष्ण ने कहा था कि कलियुग में धन को ही सर्वोपरि माना जाएगा. यही नहीं आनेवाले समय मे किसी व्यक्ति से ज्यादा उसकी धन-संपत्ति को सम्मान दिया जाएगा. इंसान जीवनभर जो भी कर्म करेगा उसकी तुलना उसके दौलत और शोहरत से ही की जाएगी.

2- इंसान के गुणों और सच्चाई की अहमियत खत्म हो जाएगी. कलयुग में निर्धन लोगों को अधर्मी, अपवित्र और बेकार माना जाएगा. कानून, न्याय केवल धन की शक्ति के आधार पर लागू किया जाएगा.

3- श्रीकृष्ण ने श्रीमदभागवत कलियुग को लेकर कहा था कि आनेवाले समय में जो व्यक्ति सफेद रंग का धागा पहन लेगा, उसे ही लोग ब्राह्मण मान लेंगे. इतना ही नहीं जो व्यक्ति बहुत चालाक और स्वार्थी होगा वो इस युग में बहुत विद्वान माना जाएगा.

4- श्रीकृष्ण की भविष्यवाणी के अनुसार आनेवाले समय में इतना भयंकर सूखा पड़ेगा कि अकाल और अत्याधिक करों द्वारा परेशान लोग पत्ते, जड़, मांस, जंगली शहद, फल, फूल और बीज खाने को मजबूर हो जाएंगे.

5- भगवान कृष्ण ने गीता में लिखा था कि कलियुग एक एकमात्र ऐसा युग होगा जहां अधिकांश मनुष्यों की उम्र 50 साल की होकर रह जाएगी. इससे ज्यादा वही जीवित रह पाएगा जो अच्छे और पुण्य कर्म करेगा.

6- भगवान श्री कृष्ण ने यह भी कहा था कि आनेवाले समय में लोगों में कलह और कलेश ज्यादा होगा. लोगों में प्यार और सद्भावना की जगह द्वेष और ईर्ष्या ले लेगी.

7- श्रीमद्भागवत पुराण के अनुसार कलियुग में धर्म, सत्यवादिता, स्वच्छता, सहिष्णुता, दया, जीवन की अवधि, शारीरिक शक्ति और स्मृति सभी दिन-ब-दिन घटती चली जाएगी.

8- कलियुग में पारिवारिक रिश्ते खराब होने लगेंगे और लोग अपने परिवार को छोड़कर अलग रहने लगेंगे. इतना ही नहीं इस युग में पुरूष और स्त्री साथ-साथ रहेंगे और दोनों के बीच विवाह बस एक समझौता होगा.

9- ये पृथ्वी भ्रष्ट और पापी लोगों से भर जाएगी. सत्ता हांसिल करने के लिए लोग एक-दूसरे को मारेंगे और व्यापार में सफलता भी छल के बल पर ही हांसिल की जाएगी.

10- कलियुग में मौसम समय के विपरीत हो जाएगा. ठंड, हवा, गर्मी, बारिश और बर्फ यह सब लोगों को बहुत परेशान करेंगे. सर्दी के मौसम में गर्मी पड़ेगी और असमय बारिश से लोग परेशान होंगे.

ये है द्वापर युग की भविष्यवाणियाँ – गौरतलब है कि आज से 5000 हजार साल पहले की गई इन भविष्यवाणियों में से ज्यादातर बातं सच साबित हो रही हैं, जिसे देखकर यह कहना गलत नहीं होगा कि आनेवाले समय में स्थिति और भी गंभीर हो सकती है.

Loading...