आबकारी विभाग ने दुकानों की ई-लॉटरी के लिए चुना शराब विरोधी ‘बापू’ का भवन

आबकारी विभाग, ई लॉटरी यूपी, महात्मा गांधी
आबकारी विभाग ने दुकानों की ई-लॉटरी के लिए चुना शराब विरोधी 'बापू' का भवन
लखनऊ। जो बाबू जीवन भर शराब के सेवन का विरोध करते रहे, उन्ही बापू की तस्वीर वाले नोट से शराब की दुकान के गल्ले में ठूँसे जा रहे हैं। बापू की मूर्ति लगे बापू भवन जैसे नाम वाले सरकारी दफ्तरों में बैठे आईएएस अधिकारी, इस बात की योजना तैयार करते हैं कि कैसे शराब बेंचकर हमारी सरकार ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकती है। इसे विडम्बना ही कहा जा सकता है। अब इस विडम्बना की पराकाष्ठा हो चुकी है क्योंकि…

लखनऊ। जो बाबू जीवन भर शराब के सेवन का विरोध करते रहे, उन्ही बापू की तस्वीर वाले नोट से शराब की दुकान के गल्ले में ठूँसे जा रहे हैं। बापू की मूर्ति लगे बापू भवन जैसे नाम वाले सरकारी दफ्तरों में बैठे आईएएस अधिकारी, इस बात की योजना तैयार करते हैं कि कैसे शराब बेंचकर हमारी सरकार ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकती है। इसे विडम्बना ही कहा जा सकता है। अब इस विडम्बना की पराकाष्ठा हो चुकी है क्योंकि सरकार लखनऊ में शराब की दुकानों की ई-लॉटरी के लिए, जिस जगह को चुना है वहां शहर के स्कूलों से बच्चे बापू के बारे में जानने के लिए आते हैं।

योगी सरकार ने नई आबकारी नीति के तहत ई-लॉटरी प्रक्रिया को गांधी भवन में ही सम्पन्न करा दिया। गांधी भवन क़ैसरबाग के रेजीडेंसी के पास स्थित है, जहां ई-लॉटरी के तहत सोमवार को शराब की दुकानों का आवंटन जारी है।

{ यह भी पढ़ें:- कांग्रेस एमएलसी ने प्रियंका गांधी पर लगाया इस्तीफा लिखवाने का आरोप }

क़ैसरबाग के रेजीडेंसी के पास स्थित बाबू भवन की दीवारों पर साफ तौर पर कई ऐसे संदेश लिखे गए हैं, जो कभी महात्मा गांधी ने देशभर में शराबबंदी को लेकर कहे थे। आबकारी विभाग इसी भवन में शराब आवंटन की पहले चरण को ज़ोर-शोर से पूर्ण कर रहा है। हालांकि सूबे की योगी सरकार ने इस बात पर शायद गौर नहीं किया। इस पूरी प्रक्रिया ने गांधी के संदेशों पर सरकार के रवैये को स्पष्ट कर दिया है।

बताते चलें कि नई आबकारी नीति के तहत सरकार ने विभाग में पारदर्शिता लाने के लिए ई-लॉटरी सिस्टम लागू किया है। बीते दिनों इस इस प्रक्रिया को शुरू करने से पहले ही लॉटरी सिस्टम के सर्वर में खराबी की वजह से आबकारी विभाग को फजीयत झेलनी पड़ी थी।

{ यह भी पढ़ें:- योगीराज में लालची डॉक्टरों का कारनामा, पैसे ना होने पर छीन ली मासूम की सांसे }

Loading...