1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. E-Shram Portal : कोरोना काल में पांच गुना से अधिक बढ़ा श्रमिकों का पंजीयन, आप भी इसका उठाएं लाभ

E-Shram Portal : कोरोना काल में पांच गुना से अधिक बढ़ा श्रमिकों का पंजीयन, आप भी इसका उठाएं लाभ

यूपी की योगी सरकार (Yogi Government)  बनने के बाद श्रमिकों को योजनाओं का लाभ देने के लिए अधिकतम पंजीयन पर जोर दिया है। इसके साथ ही श्रमिकों को जागरूक कर पंजीयन (Registration) कराया गया है। इसका परिणाम यह हुआ कि चार सालों में ही पांच गुना से भी अधिक श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) हुआ है। 2017-18 में जहां 7,81,640 श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) था, वहीं 2020-21 में 43,74,964 श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) कराया गया था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी की योगी सरकार (Yogi Government)  बनने के बाद श्रमिकों को योजनाओं का लाभ देने के लिए अधिकतम पंजीयन पर जोर दिया है। इसके साथ ही श्रमिकों को जागरूक कर पंजीयन (Registration) कराया गया है। इसका परिणाम यह हुआ कि चार सालों में ही पांच गुना से भी अधिक श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) हुआ है। 2017-18 में जहां 7,81,640 श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) था, वहीं 2020-21 में 43,74,964 श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) कराया गया था। यही नहीं 2021-22 में भी अप्रैल से अब तक 10,42,738 श्रमिकों का पंजीयन (Registration of Workers) हो चुका है।

पढ़ें :- CM Yogi का बड़ा फैसला, फैजाबाद रेलवे जंक्शन अब अयोध्या कैंट के नाम से जाना जाएगा

श्रमिकों के पंजीयन (Registration of Workers) के प्रति सरकारों की उदासीनता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि 2009-10 में पंजीकृत अधिष्ठानों में कुल पंजीकृत श्रमिकों की संख्या मात्र 1,247 थी। वहीं 2017-18 में पंजीकृत अधिष्ठानों में पंजीकृत श्रमिकों की संख्या (Number of Registered Workers) 7,81,640 थी। 2018-19 में 6,47,579, 2019-20 में 5,14,406 थी। लेकिन जब कोरोना काल आया तो श्रमिकों को लाभ कैसे पहुंचाया जाय। इसको लेकर सरकार की चिंता बढ़ गयी। इसके बाद पूरे प्रदेश में अभियान चलाया गया। पंजीकृत अधिष्ठानों से अनिवार्य रूप से श्रमिकों के पंजीयन कराने व उन्हें जागरूक करने का काम श्रम विभाग ने किया। इसका नतीजा रहा कि उप्र भवन व अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड (UP Building and Other Construction Workers Welfare Board) में 43,74,964 श्रमिकों का पंजीयन हो गया।

श्रमिक कल्याण बोर्ड (Labor Welfare Board) की डाटा के अनुसार प्रदेश में श्रमिकों के लिए चलायी गयी योजनाओं पर 2020-21 में 8,37,74,53,793 रुपये खर्च कर चुकी है। यह रोरा के मद में जम करायी गयी राशि से श्रमिकों के ऊपर किया गया खर्च है। यह मद श्रमिकों द्वारा ही जमा किया गया रुपये होता है। इस बजट का दूसरों के लिए सरकार प्रयोग नहीं कर सकती।

जानें क्या है E-Shram Portal?

मालूम हो कि ई-श्रम पोर्टल E-Shram Portalमजदूरों का डाटाबेस है। इसकी मदद से सरकार सोशल सिक्योरिटी स्कीमों (social security schemes) को उनके दरवाजे पर तक पहुंचाएगी। इस वेबसाइट के जरिए श्रमिक अपना कार्ड बनवा सकते हैं और जिन लोगों का कार्ड बनेगा उन्हें सरकार की ओर से कई सुविधाएं दी जाएंगी।

पढ़ें :- वरुण गांधी ने Yogi Government को घेरा बोले- आम आदमी को जब उसके हाल पर छोड़ दिया तो फिर सरकार का क्या मतलब?

Portal पर रजिस्ट्रेशन करने का प्रोसेस

e-SHRAM पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट eshram.gov.in पर लॉग इन करें।

अब होम पेज पर ‘रजिस्टर ऑन ई-श्रम’ लिंक पर क्लिक करें।

आधार से जुड़ा मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड डालें।

अब सेंड ओटीपी पर क्लिक करें।

पढ़ें :- Lakhimpur Kheri violence : समय से स्टेटस रिपोर्ट नहीं देने पर सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को लगाई फटकार

इसके बाद आपको आगे कई तरह के फॉर्म और भरने होंगे।

पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपसे कई जानकारियां मांगी जाएंगी। इसमें आवासीय विवरण, शैक्षणिक योग्यता, व्यवसाय और कौशल का स्वरूप, बैंक खाता, आदि शामिल है।

इन्हें भरें और निर्देशों का पालन करें।

फिर आपको ओटीपी मिलेगा और ओटीपी भरने के बाद आपका कार्ड स्क्रीन पर आ जाएगा, जिसमें क्यूआर कार्ड भी होता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...