1. हिन्दी समाचार
  2. श्रीलंका : बौद्ध भिक्षुओं के दबाव में 9 मुस्लिम मंत्रियों, 2 गवर्नरों ने दिया इस्तीफा

श्रीलंका : बौद्ध भिक्षुओं के दबाव में 9 मुस्लिम मंत्रियों, 2 गवर्नरों ने दिया इस्तीफा

Easter Bomb Blasts Case 9 Muslim Ministers Of Sri Lanka And Two Governors Resigned

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। श्रीलंका 21 अप्रैल को हुए आतंकी हमले की आग में अबतक सुलग रहा है। यह इस खबर से स्पष्ट है कि वहां मुस्लिम गवर्नर बौद्ध भिक्षुओं के दबाव के बाद इस्तीफा दे रहे हैं। श्रीलंकाई सरकार में शीर्ष पदों पर आसीन 9 मुस्लिम मंत्रियों और अल्संख्यक समुदाय से आने वाले 2 प्रांतीय गवर्नरों ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया।

पढ़ें :- नेपाल में राजशाही लागू करने की उठी मांग, सड़क पर उतरे प्रदर्शनकारी

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंत्रियों और गवर्नरों ने इस्तीफा इसलिए दिया है ताकि अधिकारी उनमें से कुछ के खिलाफ लगे आरोपों की जांच कर सकें। आपको बता दें कि इन शीर्ष मंत्रियों में से कुछ पर उस इस्लामिक चरमपंथी समूह से संबंध रखने के आरोप लगे हैं जिसे ईस्टर पर हुए घातक आत्मघाती हमलों का जिम्मेदार माना गया।

राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरीसेना ने गवर्नरों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। दोनों गवर्नरों के इस्तीफे के बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल सभी नौ मुस्लिम मंत्रियों, उप मंत्रियों और राज्य मंत्रियों ने भी त्यागपत्र दे दिया। 225 सदस्यीय संसद में 19 मुस्लिम सांसद हैं, जिनमें नौ कैबिनेट में शामिल थे। उद्योग और वाणिज्य मंत्री रिसत बैथियूथीन पर आरोप है कि वह एनटीजे का समर्थन करते रहे हैं। हालांकि, उन्होंने इन आरोपों को खारिज किया है।

श्रीलंका मुस्लिम कांग्रेस के सांसद रऊफ हकीम ने कहा, ‘जब तक मामले की जांच पूरी नहीं हो जाती है, मुस्लिम सांसद सरकार में शामिल नहीं होंगे।’ वरिष्ठ मंत्री कबीर हाशिम ने इस्तीफा देने के बाद कहा, ‘एक जिम्मेदार समुदाय के नाते हमने पद से इस्तीफा देने का फैसला किया ताकि मामले की निष्पक्ष जांच पूरी हो और देश में शांति कायम रहे। ईस्टर पर हुए धमाकों के बाद मुस्लिम समुदाय के लोग खुद से एनटीजे के बार में पुलिस को सूचना देते रहे हैं।

हालांकि, कुछ निर्दोष लोगों की गिरफ्तारी से मुस्लिम समुदाय चिंतित जरूर है।’ ईस्टर पर राजधानी कोलंबो समेत तीन शहरों में पांच सितारा होटलों और चर्चों में हुए आत्मघाती हमलों में 250 से ज्यादा लोग मारे गए थे, जबकि करीब 500 घायल हुए थे। इन हमलों की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने ली थी, लेकिन श्रीलंका सरकार ने इसके लिए स्थानीय कट्टरपंथी संगठन एनटीजे को जिम्मेदार ठहराया था।

पढ़ें :- महराजगंज:ट्रक चालक की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...