घोटाला: अफसरों में बंट गयी छात्रों की छात्रवृत्ति, इन अधिकारियों पर हुई नामजद FIR

up-scam
यूपी: पंचायती राज विभाग में पांच करोड़ गबन की साजिश, ऐसे हुआ पर्दाफाश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में पिछड़े वर्ग के छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति में हुए घोटाले के मामले में एफ़आईआर दर्ज की गयी है। ईओडब्ल्यू ने तत्कालीन जिला समाज कल्याण और पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी समेत कई पर एफआईआर दर्ज करवाई है। इसमें बांगरमऊ ब्लॉक के 33 विद्यालयों के प्रधानाचार्य, प्रबंधक, ग्राम प्रधान, पंचायत सचिव, ग्राम्य विकास अधिकारी और सभासद भी नामजद हैं।

Economic Crime Branch Case Against 23 Officials In Scholarship Scam :

यह पूरा घोटाला 2001 से 2010 के बीच का है। छात्रवृत्ति में घपले की शासन को मिली शिकायत के आधार पर 33 स्कूलों की रेंडम जांच की गई जहां 8 लाख 56 हजार 580 रुपये के घोटाले की पुष्टि हुई। लखनऊ सेक्टर के उप निरीक्षक लक्ष्मी नारायण गुप्ता की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में 2001 से 2010 के बीच उन्नाव में तैनात रहे जिला समाज कल्याण अधिकारियों को नामजद किया गया है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में पिछड़े वर्ग के छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति में हुए घोटाले के मामले में एफ़आईआर दर्ज की गयी है। ईओडब्ल्यू ने तत्कालीन जिला समाज कल्याण और पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी समेत कई पर एफआईआर दर्ज करवाई है। इसमें बांगरमऊ ब्लॉक के 33 विद्यालयों के प्रधानाचार्य, प्रबंधक, ग्राम प्रधान, पंचायत सचिव, ग्राम्य विकास अधिकारी और सभासद भी नामजद हैं। यह पूरा घोटाला 2001 से 2010 के बीच का है। छात्रवृत्ति में घपले की शासन को मिली शिकायत के आधार पर 33 स्कूलों की रेंडम जांच की गई जहां 8 लाख 56 हजार 580 रुपये के घोटाले की पुष्टि हुई। लखनऊ सेक्टर के उप निरीक्षक लक्ष्मी नारायण गुप्ता की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में 2001 से 2010 के बीच उन्नाव में तैनात रहे जिला समाज कल्याण अधिकारियों को नामजद किया गया है।