कार्रवाई : ईडी ने मेहुल चोकसी पर कसा शिकंजा, जब्त की 24 करोड़ की संपत्ति

mehul choksi
कार्रवाई : ईडी ने मेहुल चोकसी पर कसा शिकंजा, जब्त की 24 करोड़ की संपत्ति

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने पंजाब नेशनल बैंक से करोड़ों रूपए की ठगी करने वाले भगोड़े मेहुल चोकसी पर शिकंजा कसना शुरु कर दिया है। इसी क्रम में ईडी ने मेहुल चोकसी की 24 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली है। जब्त की गई सम्पत्ति में उनकी अचल संपत्ति, कीमती सामान, गाड़ियां, बैंक अकाउंट आदि शामिल है। बता दें ​ईडी ने कार्रवाई मनी लॉन्डरिंग एक्ट 2002 (PMLA) के तहत की है। मेहुल चोकसी मौजूदा समय एंटीगुआ में रह रहे हैं। फिलहाल भारत सरकार मेहुल चोकसी और नीरव मोदी को भारत लाने का प्रयास कर रही है।

Ed Cracks Down On Mehul Choksi Seized Assets Worth Rs 24 Crores :

बता दें इससे पहले आरोपी हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के मामले को लेकर केन्द्र सरकार और ईडी सुप्रीम कोर्ट पहुंची। प्रवर्तन निदेशालय और केन्द्र सरकार ने बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। बाम्बे हाईकोर्ट ने मेहुल चोकसी के स्वास्थ्य सम्बंधी कागजात मांगे थे, जिससे ये पता लगाया जा सके कि वो भारत यात्रा करने के लायक है या फिर नहीं।

गौरतलब है कि मेहुल चोकसी ने बंबई हाईकोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा था कि उसने मामले के अभियोजन से बचने के लिए नहीं बल्कि अपने इलाज के लिए देश छोड़ा था। ईडी के आवेदन में चोकसी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने का अनुरोध किया गया है। चोकसी और उसका भतीजा नीरव मोदी दोनों पीएनबी के साथ 13,400 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी मामले में वांछित हैं।

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने पंजाब नेशनल बैंक से करोड़ों रूपए की ठगी करने वाले भगोड़े मेहुल चोकसी पर शिकंजा कसना शुरु कर दिया है। इसी क्रम में ईडी ने मेहुल चोकसी की 24 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली है। जब्त की गई सम्पत्ति में उनकी अचल संपत्ति, कीमती सामान, गाड़ियां, बैंक अकाउंट आदि शामिल है। बता दें ​ईडी ने कार्रवाई मनी लॉन्डरिंग एक्ट 2002 (PMLA) के तहत की है। मेहुल चोकसी मौजूदा समय एंटीगुआ में रह रहे हैं। फिलहाल भारत सरकार मेहुल चोकसी और नीरव मोदी को भारत लाने का प्रयास कर रही है। बता दें इससे पहले आरोपी हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के मामले को लेकर केन्द्र सरकार और ईडी सुप्रीम कोर्ट पहुंची। प्रवर्तन निदेशालय और केन्द्र सरकार ने बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। बाम्बे हाईकोर्ट ने मेहुल चोकसी के स्वास्थ्य सम्बंधी कागजात मांगे थे, जिससे ये पता लगाया जा सके कि वो भारत यात्रा करने के लायक है या फिर नहीं। गौरतलब है कि मेहुल चोकसी ने बंबई हाईकोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा था कि उसने मामले के अभियोजन से बचने के लिए नहीं बल्कि अपने इलाज के लिए देश छोड़ा था। ईडी के आवेदन में चोकसी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने का अनुरोध किया गया है। चोकसी और उसका भतीजा नीरव मोदी दोनों पीएनबी के साथ 13,400 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी मामले में वांछित हैं।