नोटबंदी के बाद बसपा के खाते में जमा हुए 104 करोड़

नई दिल्ली| प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को दिल्ली में यूनियन बैंक की करोलबाग ब्रांच में बसपा के ऐसे खाते का पता चला है जिसमें नोटबंदी के बाद करीब 104 करोड़ रुपए जमा कराए गए हैं| इतना ही नहीं ईडी को मायावती के भाई आनंद कुमार के खाते में भी 1.43 करोड़ रुपए का पता चला है| आनंद कुमार के खाते में भी नोटबंदी के बाद रुपए जमा कराए गए थे| ईडी ने बैंक से दोनों खातों के बारे में ब्योरा मांगा है| साथ ही सीसीटीवी फुटेज और केवाईसी दस्तावेज भी मांगे गए हैं| कहा जा रहा है कि आयकर विभाग को भी इस बारे में जानकारी भेजी जाएगी जो पार्टी के चंदे की पड़ताल कर सकती है|




ईडी के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि हमारी एक टीम ने दिल्ली में करोल बाग स्थित बैंक की शाखा पर छापेमारी की, जिससे दो खातों में नोटबंदी की घोषणा के बाद संदिग्ध रूप से अत्यधिक मात्रा में पैसा जमा होने का पता चला| कई बार कोशिश करने के बावजूद बसपा नेताओं या पार्टी अधिकारियों से संपर्क नहीं हो सका|




आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि 102 करोड़ रुपये 1,000 रुपये के पुराने अमान्य नोटों के रूप में जमा करवाए गए और करीब तीन करोड़ रुपये 500 रुपये के पुराने अमान्य नोटों के रूप में जमा करवाए गए| सूत्रों ने बताया, “हमें सूचना मिली थी कि यूबीआई की इस शाखा में रोज-रोज 15 से 20 करोड़ रुपये जमा हो रहे हैं, जिसके बाद हमने यह छापेमारी की| मायावती के भाई आनंद के खाते में कुल 1.5 करोड़ रुपये जमा हैं, जिनमें 19 लाख रुपये नोटबंदी की घोषणा के बाद जमा हुए|”