खनन घोटाला : जेल में बंद गायत्री प्रजापति से ईडी आज करेगी पूछताछ, कई सफेदपोश भी रडार पर

gyatri
खनन घोटाला : जेल में होगी गायत्री प्रजापति से पूछताछ, अखिलेश यादव तक पहुंच सकती है जांच की आंच

लखनऊ। अवैध खनन घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) आज लखनऊ जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति से पूछताछ करेगी। बीते दिनों ईडी ने खनन घोटाले में सुबूत जुटाए थे। अब उन्हीं सुबूतों की हकीकत जांचने के लिए गायत्री से कुछ देर बाद जेल में पूछताछ शुरू होगी। सूत्रों क माने गायत्री से पूछताछ के बाद ईडी पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर भी शिकंजा कस सकती है। वहीं, ईडी के साथ सीबीआई की टीम भी गायात्री से जल्द पूछताछ कर सकती है।

Ed Interrogation To Gayatri Prajapati In Illigal Mining Case :

बता दें, सपा सरकार के समय नियमों को दरकिनार करके 22 खनन पट्टों के आवंटन पत्रावली पर अनुमोदन किया गया था। इनमें से 14 खनन पट्टों के आवंटन की पत्रावली पर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने अनुमोदन किया था। वहीं , आठ खनन पट्टों में बतौर तत्कालीन खनन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति ने अनुमोदन किया था। घोटाला उजागर हुआ तो साल के शुरूआत में सीबीआई ने हमीरपुर में हुए खनन घोटाले में केस दर्ज किया था।

इसमें हमीरपुर में जिलाधिकारी रहीं बी चंद्रकला समेत 11 लोगों को नामजद किया गया था। साथ ही बी. चंद्रकला समेत 12 स्थानों पर छापेमारी कर कई अहम दस्तावेज बरामद किए गए थे। सीबीआई की एफआईआर के बाद उसी आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने भी केस दर्ज किया था। जांच के बाद ईडी ने गायात्री की संपत्तियों का ब्योरा जुटाया था। इसमें उनकी संपत्ति कुछ वर्षों में ही कई गुना बढ़ने की बात सामने आई थी।

इसी के बाद गायत्री से पूछताछ के लिए ईडी ने कोर्ट में अर्जी लगाई थी। गायत्री से पूछताछ के बाबत जेल अधिकारियों को भी सूचित कर दिया गया है। सूत्रों की माने तो जेल में गायत्री से पूछताछ के बाद ईडी पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर भी शिकंजा कस सकती है। इसके साथ ही गायात्री के कई करीबियों पर ​शिकंजा कसना तय हो गया है।

लखनऊ। अवैध खनन घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) आज लखनऊ जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति से पूछताछ करेगी। बीते दिनों ईडी ने खनन घोटाले में सुबूत जुटाए थे। अब उन्हीं सुबूतों की हकीकत जांचने के लिए गायत्री से कुछ देर बाद जेल में पूछताछ शुरू होगी। सूत्रों क माने गायत्री से पूछताछ के बाद ईडी पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर भी शिकंजा कस सकती है। वहीं, ईडी के साथ सीबीआई की टीम भी गायात्री से जल्द पूछताछ कर सकती है। बता दें, सपा सरकार के समय नियमों को दरकिनार करके 22 खनन पट्टों के आवंटन पत्रावली पर अनुमोदन किया गया था। इनमें से 14 खनन पट्टों के आवंटन की पत्रावली पर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने अनुमोदन किया था। वहीं , आठ खनन पट्टों में बतौर तत्कालीन खनन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति ने अनुमोदन किया था। घोटाला उजागर हुआ तो साल के शुरूआत में सीबीआई ने हमीरपुर में हुए खनन घोटाले में केस दर्ज किया था। इसमें हमीरपुर में जिलाधिकारी रहीं बी चंद्रकला समेत 11 लोगों को नामजद किया गया था। साथ ही बी. चंद्रकला समेत 12 स्थानों पर छापेमारी कर कई अहम दस्तावेज बरामद किए गए थे। सीबीआई की एफआईआर के बाद उसी आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने भी केस दर्ज किया था। जांच के बाद ईडी ने गायात्री की संपत्तियों का ब्योरा जुटाया था। इसमें उनकी संपत्ति कुछ वर्षों में ही कई गुना बढ़ने की बात सामने आई थी। इसी के बाद गायत्री से पूछताछ के लिए ईडी ने कोर्ट में अर्जी लगाई थी। गायत्री से पूछताछ के बाबत जेल अधिकारियों को भी सूचित कर दिया गया है। सूत्रों की माने तो जेल में गायत्री से पूछताछ के बाद ईडी पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर भी शिकंजा कस सकती है। इसके साथ ही गायात्री के कई करीबियों पर ​शिकंजा कसना तय हो गया है।