रॉबर्ट वाड्रा और उनके सहयोगियों के ठिकानों पर ईडी की 16 घंटे तक चली छापेमारी

रॉबर्ट वाड्रा के ठिकानों पर ईडी की 16 घंटे तक चली छापेमारी
रॉबर्ट वाड्रा के ठिकानों पर ईडी की 16 घंटे तक चली छापेमारी

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा पर अब शिकंजा कसना शुरु कर दिया है। कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा और उनकी कंपनियों से जुड़े कुछ लोगों के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। बताया जा रहा है कि ईडी की यह कार्रवाई करीब 16 घंटे तक चली।

Ed Raids Robert Vadra Office :

स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी कंपनी के एडवोकेट तबरेज का आरोप है कि ईडी दिल्ली के सुखदेव विहार स्थित वाड्रा के ऑफिस में दरवाजे तोड़कर अंदर घुसी और कर्मचारियों को 13 से 14 घंटे तक बंद रखा। उनका कहना है कि ईडी ने गेट में लगे सीसीटीवी कैमरे को तोड़ दिया और ऑफिस को पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया। उन्होंने दफ्तर के सभी केबिन के ताले भी तोड़ दिए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर और बेंगलुरु के विभिन्न ठिकानों पर दोपहर 12 बजे से छानबीन शुरू की गयी। ईडी से जुड़े सूत्रों ने कहा कि, ‘वाड्रा की कंपनियों के दो कर्मचारियों और एक अन्य व्यक्ति के ठिकानों की छानबीन की गई। इन लोगों ने संदिग्ध तौर पर रक्षा सौदों से कमीशन प्राप्त किये और उस राशि का इस्तेमाल विदेशों में अवैध संपत्तियों की खरीद में किया।’ उसने दावा किया कि एजेंसी को कुछ ‘नये साक्ष्य’ मिले हैं, जिनके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

छानबीन पर वाड्रा के वकील ने जताइ नाराजगी

वहीं वाड्रा के वकील ने आरोप लगाया, ‘ उन्होंने (ED की टीम) स्काइलाइट हॉस्पिटैलिटी के हमारे लोगों को अंदर बंद कर दिया है। वे किसी को भी अंदर जाने नहीं दे रहे हैं। क्या यह नाजीवाद है? क्या यह जेल है?’ वकील ने इस माले में आगे कहा कि साढ़े चार साल हो गए हैं और ईडी को कुछ भी नहीं मिला है। अब वे हमें बाहर रखकर सबूत गढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। रॉबर्ट वाड्रा के ऑफिस की तरफ से इस बारे में बयान जारी किया गया है। रॉबर्ट वाड्रा ने अपने ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने अपने करीबी लोगों के घरों पर ईडी की छापेमारी को लेकर बयान दिया है।

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा पर अब शिकंजा कसना शुरु कर दिया है। कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा और उनकी कंपनियों से जुड़े कुछ लोगों के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। बताया जा रहा है कि ईडी की यह कार्रवाई करीब 16 घंटे तक चली।स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी कंपनी के एडवोकेट तबरेज का आरोप है कि ईडी दिल्ली के सुखदेव विहार स्थित वाड्रा के ऑफिस में दरवाजे तोड़कर अंदर घुसी और कर्मचारियों को 13 से 14 घंटे तक बंद रखा। उनका कहना है कि ईडी ने गेट में लगे सीसीटीवी कैमरे को तोड़ दिया और ऑफिस को पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया। उन्होंने दफ्तर के सभी केबिन के ताले भी तोड़ दिए हैं।अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर और बेंगलुरु के विभिन्न ठिकानों पर दोपहर 12 बजे से छानबीन शुरू की गयी। ईडी से जुड़े सूत्रों ने कहा कि, 'वाड्रा की कंपनियों के दो कर्मचारियों और एक अन्य व्यक्ति के ठिकानों की छानबीन की गई। इन लोगों ने संदिग्ध तौर पर रक्षा सौदों से कमीशन प्राप्त किये और उस राशि का इस्तेमाल विदेशों में अवैध संपत्तियों की खरीद में किया।' उसने दावा किया कि एजेंसी को कुछ ‘नये साक्ष्य’ मिले हैं, जिनके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

छानबीन पर वाड्रा के वकील ने जताइ नाराजगी

वहीं वाड्रा के वकील ने आरोप लगाया, ‘ उन्होंने (ED की टीम) स्काइलाइट हॉस्पिटैलिटी के हमारे लोगों को अंदर बंद कर दिया है। वे किसी को भी अंदर जाने नहीं दे रहे हैं। क्या यह नाजीवाद है? क्या यह जेल है?’ वकील ने इस माले में आगे कहा कि साढ़े चार साल हो गए हैं और ईडी को कुछ भी नहीं मिला है। अब वे हमें बाहर रखकर सबूत गढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। रॉबर्ट वाड्रा के ऑफिस की तरफ से इस बारे में बयान जारी किया गया है। रॉबर्ट वाड्रा ने अपने ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने अपने करीबी लोगों के घरों पर ईडी की छापेमारी को लेकर बयान दिया है।