मिश्र : बंदर का प्राइवेट पार्ट छूने पर महिला को तीन साल की सजा

monkey sexual harrashment
मिश्र : बंदर का प्राइवेट पार्ट छूने पर महिला को तीन साल की सजा

नई दिल्ली। अभी तक आपने इंसान के यौन उत्पीड़न की घटनाएं सुनी होगी, लेकिन इस बार एक महिला को बंदर यौन उत्पीड़न करने पर तीन साल की सजा सुनाई गई है। इजिप्ट की एक महिला का कथित वीडियो वायरल हुआ है। वीडियो में वो बंदर का प्राइवेट पार्ट छूते दिख रही है, जिसकी वजह से उसे तीन साल की सजा सुनाई गई है।

Egyptian Woman Sexually Harassing A Monkey Jailed For Three Year :

बताया जा रहा है सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद महिला को गिरफ्तार कर लिया गया था और सार्वजनकि जगहों पर अश्लीलता फैलाने का आरोप लगाया गया था। शुक्रवार को 25 साल की महिला बस्मा अहमद को इजिप्ट की एक अदालत ने 3 साल जेल की सजा सुनाई गई।

90 सेकंड के वायरल वीडियो में देखा गया कि एक पेट शॉप में महिला बंदर के अंगों को हंसते हुए टच कर रही है। कोर्ट में महिला ने अपना गुनाह स्वीकार किया, लेकिन कहा कि उसका इरादा ऐसा करने का नहीं था। महिला ने कहा कि उसके दोस्त ने वीडियो बनाया और बिना उससे पूछे ही सोशल मीडिया पर डाल दिया।

वायरल वीडियो ने कंजर्वेटिव मुस्लिम देश में बहस छेड़ दी थी. शुरुआत में महिला को 4 दिनों के लिए हिरासत में लिया गया था। लेकिन बाद में हिरासत 15 दिन तक कर दिया गया था। अधिकारियों ने ये भी कहा है कि महिला ने पहली बार अपराध नहीं किया है, बल्कि इससे पहले भी अनैतिकता के मामलों में उस पर आरोप लग चुके हैं।

नई दिल्ली। अभी तक आपने इंसान के यौन उत्पीड़न की घटनाएं सुनी होगी, लेकिन इस बार एक महिला को बंदर यौन उत्पीड़न करने पर तीन साल की सजा सुनाई गई है। इजिप्ट की एक महिला का कथित वीडियो वायरल हुआ है। वीडियो में वो बंदर का प्राइवेट पार्ट छूते दिख रही है, जिसकी वजह से उसे तीन साल की सजा सुनाई गई है।बताया जा रहा है सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद महिला को गिरफ्तार कर लिया गया था और सार्वजनकि जगहों पर अश्लीलता फैलाने का आरोप लगाया गया था। शुक्रवार को 25 साल की महिला बस्मा अहमद को इजिप्ट की एक अदालत ने 3 साल जेल की सजा सुनाई गई।90 सेकंड के वायरल वीडियो में देखा गया कि एक पेट शॉप में महिला बंदर के अंगों को हंसते हुए टच कर रही है। कोर्ट में महिला ने अपना गुनाह स्वीकार किया, लेकिन कहा कि उसका इरादा ऐसा करने का नहीं था। महिला ने कहा कि उसके दोस्त ने वीडियो बनाया और बिना उससे पूछे ही सोशल मीडिया पर डाल दिया।वायरल वीडियो ने कंजर्वेटिव मुस्लिम देश में बहस छेड़ दी थी. शुरुआत में महिला को 4 दिनों के लिए हिरासत में लिया गया था। लेकिन बाद में हिरासत 15 दिन तक कर दिया गया था। अधिकारियों ने ये भी कहा है कि महिला ने पहली बार अपराध नहीं किया है, बल्कि इससे पहले भी अनैतिकता के मामलों में उस पर आरोप लग चुके हैं।