वाराणसी फ्लाईओवर हादसा: जांच रिपोर्ट आने के बाद पहली कार्रवाई, आठ अभियुक्त गिरफ्तार

kent area ,uttar pradesh, Varanasi ,varanasi accident, varanasi bridge collapse
वाराणसी फ्लाईओवर हादसा: जांच रिपोर्ट आने के बाद पहली कार्रवाई, आठ अभियुक्त गिरफ्तार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में कैण्ट फ्लाईओवर हादसे की जांच में आठ अभियुक्तों को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर हरीश चंद्र तिवारी, केआर सूदन, राजेंद्र सिंह, लालचंद्र सिंह, राजेश पाल, गेंदालाल, ठेकेदार साहिब हुसैन शामिल हैं। सभी को क्राइम ब्राच टीम द्वारा थाना सिगरा पर गिरफ्तार कर जेल भेजने की तैयारी की जा रही है।

बता दें कि बीती 15 मई को वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के सामने निर्माणाधीन फ्लाई ओवर की दो बीम गिरने से 15 लोगों की मौत हो गई थी। बिना रूट डायवर्जन के पिलर पर रखी जा रहीं दो बीम गिरने से कोहराम मच गया था। आधा दर्जन से ज्यादा वाहन इन बीमों के नीचे दब गए, जिसमें से 15 लोगों की जान चली गई थी जबकि कई गंभीर रूप से घायल थे।

{ यह भी पढ़ें:- Asian Games 2018: बजरंग पुनिया ने दिलाया भारत को पहला स्वर्ण पदक }

इस हादसे की जांच के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक जांच समिति का गठन किया था। हादसे का कारण पहली नजर में उत्तर प्रदेश सेतु निर्माण निगम द्वारा लापरवाही से किया जा रहा कार्य बताया जा गया था। आरोप था कि ट्रैफिक डायवर्जन किए बिना ही निर्माण कार्य किया जा रहा था। इस मामले में जांच रिपोर्ट आने के बाद यह पहली कार्रवाई की गई है। इस मामले में जांच रिपोर्ट आने के बाद यह पहली कार्रवाई की गई है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में कैण्ट फ्लाईओवर हादसे की जांच में आठ अभियुक्तों को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर हरीश चंद्र तिवारी, केआर सूदन, राजेंद्र सिंह, लालचंद्र सिंह, राजेश पाल, गेंदालाल, ठेकेदार साहिब हुसैन शामिल हैं। सभी को क्राइम ब्राच टीम द्वारा थाना सिगरा पर गिरफ्तार कर जेल भेजने की तैयारी की जा रही है। बता दें कि बीती 15 मई को वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन के सामने निर्माणाधीन फ्लाई…
Loading...