1. हिन्दी समाचार
  2. यूपी में आठवीं के छात्र ने प्रिंसिपल से मांगी पांच लाख की फिरौती, जानें वारदात के पीछे की वजह

यूपी में आठवीं के छात्र ने प्रिंसिपल से मांगी पांच लाख की फिरौती, जानें वारदात के पीछे की वजह

Eighth Student In Up Demanded Ransom Of Five Lakh From Principal Know The Reason Behind The Incident

By बलराम सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी के मैनपुर में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां कक्षा आठ के 13 वर्षीय छात्र ने स्कूल के प्रधानाचार्य से पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी। फिरौती की रकम के लिए यह छात्र इस कदर उतावला था कि वह प्रधानाचार्य को लगातार फोन करके धमका रहा था। हालांकि बातचीत के बाद छात्र 90 हजार रुपये लेने पर राजी हो गया। इससे पहले वह सफल होता पुलिस की सर्विलांस टीम और बरनाहल पुलिस ने मिलकर उसे पकड़ लिया। 13 साल के बालक की इस हरकत से लोग ही नहीं बल्कि पुलिस भी हैरान है।

पढ़ें :- पढाई का ऐसा जुनून रोज बॉर्डर पार करके स्कूल जाते है बच्चे, साथ रखते हैं पासपोर्ट

पुलिस के मुताबिक मैनपुरी जिले के बरनाहल स्थित वर्णी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य बृजकिशोर शर्मा के पास रविवार की शाम 4 बजे प्रधानाचार्य के मोबाइल पर एक युवक का कॉल आया और पांच पेटी यानि पांच लाख रुपये की डिमांड की। प्रधानाचार्य ने नाम-पता पूछा तो युवक धमकी देने लगा। युवक ने सुबह 9 बजे तक का वक्त दिया, इससे पूर्व उसने रात 10 बजे और रात 12 बजे भी फिरौती के कॉल किए। पुलिस से शिकायत करने पर पूरे परिवार को खत्म करने की धमकी दी। प्रधानाचार्य ने शाम को ही थाना प्रभारी सुरेशचंद्र शर्मा को घटना की तहरीर दी। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 387 के तहत मुकदमा दर्ज कर फिरौती मांगने वाले की तलाश शुरू कर दी। पुलिस ने बाद में सर्विलांस सेल की मदद से फिरौती मांगने वाले कक्षा आठ के छात्र को पकड़ लिया। उससे दो मोबाइल, चार सिम बरामद की गईं।

कक्षा आठ के छात्र द्वारा प्रधानाचार्य से पांच लाख की फिरौती मांगी गई, यह खुलासा होने के बाद लोग हैरान हैं। कक्षा आठ का छात्र इतनी बड़ी घटना को अंजाम देने का हौंसला कहां से लाया इसको लेकर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। रविवार की शाम 4 बजे फिरौती का कॉल आने के बाद पुलिस की नींद उड़ गई थी। बरनाहल पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए रातभर प्लानिंग की। सोमवार की सुबह 10 बजे तक पुलिस के पास फिरौती मांगने वाले के मोबाइल का रिपोर्ट कार्ड पहुंच गया था। इसके बाद इस आरोपी को पकड़ने में आसानी हुई।

सोमवार को सुबह 9 बजे के करीब इस युवक ने प्रधानाचार्य को फिर कॉल किया और रुपये बैग में रखकर स्कूल के पीछे वाली गली में लेकर आने को कहा। प्रधानाचार्य ने बैग में कागज के टुकड़े रखकर बैग गली में फेंक दिया लेकिन इस बैग को उठाने कोई नहीं आया तो पुलिस बैग को उठाकर ले आई। अब समस्या और बढ़ गई थी। इस बीच सर्विलांस सेल ने युवक के फोन नंबर को ट्रेस कर लिया। यह फोन एक इंटर कॉलेज के शिक्षक का निकला। थाना प्रभारी ने फोन पर बात की तो शिक्षक थाने पहुंच गए और कुछ ही देर में उनके 13 वर्षीय नाबालिग पुत्र को पकड़ लिया गया।

थाने लाए गए इस पुत्र से पुलिस ने पूछताछ की तो घटना का खुलासा होते देर न लगी। उसने स्वीकार किया कि उसने प्रधानाचार्य को कॉल कर पांच पेटी यानि पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी थी। जानकारी मिलते ही प्रधानाचार्य और उनके परिवारीजन भी थाने पहुंच गए। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी का पिता एक कॉलेज में और उसकी मां परिषदीय स्कूल में टीचर है। पिछले वर्ष इन दोनों से 53 लाख रुपये की ऑनलाइन ठगी हो गई थी। इसकी जांच साइबर सेल आगरा से चल रही है। इनका 13 वर्षीय पुत्र घिरोर के एक स्कूल में कक्षा आठ का छात्र है। मोबाइल पर उसने फिरौती वसूलने की प्लानिंग की थी। पुलिस ने मामला पहले ही दर्ज कर लिया था। पकड़े गए इस छात्र को बाल सुधार गृह भेजा जाएगा।

पढ़ें :- यूपी : 31661 सहायक शिक्षकों की भर्ती का योगी सरकार ने जारी किया आदेश

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...