मास्क नहीं पहनने पर बुजुर्ग पिता ने दिव्यांग बेटे को उतारा मौत के घाट

murder
यूपी: संभल में पुजारी और उसके बेटे की हत्या, मंदिर परिसर में मिले शव

कोलकाता: महानगर कोलकाता में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां मास्क नहीं पहनने पर आक्रोशित एक बुजुर्ग पिता ने अपने दिव्यांग बेटे की गला घोटकर हत्या कर दी। मृतक की पहचान 45 साल के शिर्शेंदु मल्लिक के तौर पर हुई है। जबकि पिता का नाम बंशीधर मल्लिक (78 साल) है। घटना शनिवार देर शाम श्यामपुकुर थाना इलाके की है।

Elderly Father Kills Divyangs Son For Not Wearing A Mask :

कोलकाता पुलिस के संयुक्त आयुक्त (अपराध) मुरलीधर शर्मा ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बेटे की हत्या करने के बाद पिता खुद पुलिस स्टेशन पहुंचे और आत्मसमर्पण किया। उन्होंने पुलिस अधिकारियों के सामने पूरी घटना बताई और अपना अपराध भी स्वीकार किया है। उन्हें गिरफ्तार कर भारतीय दंड विधान की धारा 302 यानी हत्या के तहत मामला दर्ज कर कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

आरोपित द्वारा गुनाह कबूल किए जाने के तुरंत बाद श्यामपुकुर थाने से पुलिस की टीम उनके घर पहुंची और मृतक के शव को बरामद कर लिया। पिता के दावे की जांच के लिए पोस्टमार्टम हेतु भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट रविवार शाम तक आने की उम्मीद है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि आरोपित एक निजी फर्म के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं और उनका बेटा दिव्यांग था। इस वजह से बेरोजगार भी था। पिछले कुछ दिनों से सुरक्षा मानकों को लेकर बेटे और पिता के बीच नियमित रूप से झगड़े होते थे।

पिता का कहना था कि जब भी कोई घर के बाहर जाए तो मास्क जरूर पहने लेकिन बेटा उनकी बात नहीं मानता था। शनिवार शाम इसी बात को लेकर विवाद गहराया जिसके बाद पिता ने गुस्से में अपने बेटे की गर्दन को कपड़े से लपेटकर घोट दिया। उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य में सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है।

कोलकाता: महानगर कोलकाता में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां मास्क नहीं पहनने पर आक्रोशित एक बुजुर्ग पिता ने अपने दिव्यांग बेटे की गला घोटकर हत्या कर दी। मृतक की पहचान 45 साल के शिर्शेंदु मल्लिक के तौर पर हुई है। जबकि पिता का नाम बंशीधर मल्लिक (78 साल) है। घटना शनिवार देर शाम श्यामपुकुर थाना इलाके की है। कोलकाता पुलिस के संयुक्त आयुक्त (अपराध) मुरलीधर शर्मा ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बेटे की हत्या करने के बाद पिता खुद पुलिस स्टेशन पहुंचे और आत्मसमर्पण किया। उन्होंने पुलिस अधिकारियों के सामने पूरी घटना बताई और अपना अपराध भी स्वीकार किया है। उन्हें गिरफ्तार कर भारतीय दंड विधान की धारा 302 यानी हत्या के तहत मामला दर्ज कर कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई है। आरोपित द्वारा गुनाह कबूल किए जाने के तुरंत बाद श्यामपुकुर थाने से पुलिस की टीम उनके घर पहुंची और मृतक के शव को बरामद कर लिया। पिता के दावे की जांच के लिए पोस्टमार्टम हेतु भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट रविवार शाम तक आने की उम्मीद है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि आरोपित एक निजी फर्म के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं और उनका बेटा दिव्यांग था। इस वजह से बेरोजगार भी था। पिछले कुछ दिनों से सुरक्षा मानकों को लेकर बेटे और पिता के बीच नियमित रूप से झगड़े होते थे। पिता का कहना था कि जब भी कोई घर के बाहर जाए तो मास्क जरूर पहने लेकिन बेटा उनकी बात नहीं मानता था। शनिवार शाम इसी बात को लेकर विवाद गहराया जिसके बाद पिता ने गुस्से में अपने बेटे की गर्दन को कपड़े से लपेटकर घोट दिया। उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य में सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है।