हलाला के लिए मिली युवती पर बुजुर्ग का आया दिल, तलाक देने से किया इन्कार

हलाला के लिए मिली युवती पर बुजुर्ग का आया दिल, तलाक देने से किया इन्कार
हलाला के लिए मिली युवती पर बुजुर्ग का आया दिल, तलाक देने से किया इन्कार

बरेली। बरेली में तीन तलाक का एक ऐसा केस सामने आया है, जिसमें हलाला करने वाला व्यक्ति महिला (28 साल) को तलाक ही नहीं दे रहा। हलाला करने वाले उस 65 साल के बुजुर्ग का दिल महिला पर आ गया है। हलाला करने वाले उस 65 साल के बुजुर्ग का दिल महिला पर आ गया है। अब पहला शौहर परेशान है। परेशान युवती ने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की बहन फ़रहत नकवी से इंसाफ की गुहार लगाई है।

Elderly Man Halala Marriage With Old Woman Bareilly :

तीन तलाक और हलाला पर लाख बहसों के बाद भी दोनों से छुटकारा नहीं दिख रहा। बरेली का ताजा मामला यही बताता है। जानकारी के अनुसार उत्तराखंड निवासी अकील अहमद की बेटी जूही का निकाह मोहम्मद जावेद के साथ साल 2010 में हुआ था। दंपति के दो बेटे हुए। वक्त के साथ दोनों में कहासुनी होने लगी और नौबत तलाक की आ गई।

साल 2013 में दोनों का तलाक हो गया। हालांकि उसके बाद दोनों को गलती का अहसास हुआ. दोबारा निकाह के लिए पति-पत्नी ने पूरे परिवार की सहमति ली। युवती की बरेली के एक 65 वर्षीय बुजुर्ग के साथ हलाला की रस्म हुई। बुजुर्ग ने हामी भरी कि वो तलाक दे देगा लेकिन हलाला के बाद उसकी नीयत बदल गई और उसने तलाक देने से इनकार कर दिया।

पहली शादी से दंपति के दो बेटे हैं और तलाक के बाद से एक बेटा मां और एक पिता के पास रह रहा है। पीड़िता की बार-बार मांग के बावजूद बुजुर्ग के तलाक से इनकार करने पर मामला गरमा गया है। पीड़िता ने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की बहन फ़रहत नकवी से इंसाफ की गुहार लगाई है। खुला कराकर युवती को अनचाहे रिश्ते से आजाद कराने की योजना बनाई जा रही है।

बरेली। बरेली में तीन तलाक का एक ऐसा केस सामने आया है, जिसमें हलाला करने वाला व्यक्ति महिला (28 साल) को तलाक ही नहीं दे रहा। हलाला करने वाले उस 65 साल के बुजुर्ग का दिल महिला पर आ गया है। हलाला करने वाले उस 65 साल के बुजुर्ग का दिल महिला पर आ गया है। अब पहला शौहर परेशान है। परेशान युवती ने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की बहन फ़रहत नकवी से इंसाफ की गुहार लगाई है। तीन तलाक और हलाला पर लाख बहसों के बाद भी दोनों से छुटकारा नहीं दिख रहा। बरेली का ताजा मामला यही बताता है। जानकारी के अनुसार उत्तराखंड निवासी अकील अहमद की बेटी जूही का निकाह मोहम्मद जावेद के साथ साल 2010 में हुआ था। दंपति के दो बेटे हुए। वक्त के साथ दोनों में कहासुनी होने लगी और नौबत तलाक की आ गई। साल 2013 में दोनों का तलाक हो गया। हालांकि उसके बाद दोनों को गलती का अहसास हुआ. दोबारा निकाह के लिए पति-पत्नी ने पूरे परिवार की सहमति ली। युवती की बरेली के एक 65 वर्षीय बुजुर्ग के साथ हलाला की रस्म हुई। बुजुर्ग ने हामी भरी कि वो तलाक दे देगा लेकिन हलाला के बाद उसकी नीयत बदल गई और उसने तलाक देने से इनकार कर दिया। पहली शादी से दंपति के दो बेटे हैं और तलाक के बाद से एक बेटा मां और एक पिता के पास रह रहा है। पीड़िता की बार-बार मांग के बावजूद बुजुर्ग के तलाक से इनकार करने पर मामला गरमा गया है। पीड़िता ने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की बहन फ़रहत नकवी से इंसाफ की गुहार लगाई है। खुला कराकर युवती को अनचाहे रिश्ते से आजाद कराने की योजना बनाई जा रही है।