मायावती की मुश्किलें बढ़ीं, चुनाव आयोग ने नोटबंदी के बाद जमा 105 करोड़ का मांगा हिसाब

Election Commision Sends Notice To Mayawati

नई दिल्ली| यूपी में जारी विधानसभा चुनावों के बीच बसपा सुप्रीमो मायावती को चुनाव आयोग से झटका लगा है| चुनाव आयोग ने मायावती को नोटिस जारी कर नोटबंदी के बाद बीएसपी के खातों जमा किए गए 105 करोड़ रु. का हिसाब मांगा है| आयोग ने इस बाबत पार्टी को 15 मार्च तक जवाब देने को कहा है|




गौरतलब है कि 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का ऐलान करते हुए 500 और 1000 रुपये के नोटों को चलन से बाहर कर दिया था| सरकार ने इन नोटों को 31 दिसंबर तक बैंकों से बदलने को कहा था|




इसी बीच फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट और इनकम टैक्स विभाग ने कुछ आंकड़े जारी किए थे| इन आंकड़ों के मुताबिक, बसपा ने नोटबंदी के दौरान पुराने एक हजार के नोट में 102 करोड़ रुपये और पुराने 500 के नोटों के रूप में तीन करोड़ रुपये बैंक में जमा कराए थे| हालांकि मायावती का कहना था कि यह पार्टी का पैसा है जो चंदे के तौर पर मिला हुआ है|

नई दिल्ली| यूपी में जारी विधानसभा चुनावों के बीच बसपा सुप्रीमो मायावती को चुनाव आयोग से झटका लगा है| चुनाव आयोग ने मायावती को नोटिस जारी कर नोटबंदी के बाद बीएसपी के खातों जमा किए गए 105 करोड़ रु. का हिसाब मांगा है| आयोग ने इस बाबत पार्टी को 15 मार्च तक जवाब देने को कहा है| गौरतलब है कि 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का ऐलान करते हुए 500 और 1000 रुपये के नोटों को…