चुनाव आयोग ने फिर खारिज की लवासा की मांग, EVM की शिकायतों पर उठाया ये कदम

evm
चुनाव आयोग ने फिर खारिज की लवासा की मांग, EVM की शिकायतों पर उठाया ये कदम

नई दिल्ली। 17वीं लोकसभा चुनाव के नतीजे कुछ घंटों बाद आने वाले हैं। वहीं चुनाव आयोग के भीतर जारी मतभेद का मामला भी शांत नहीं हो रहा है। बताते चलें कि हाल ही में चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने आयोग के फैसले को लेकर कई सवाल उठाए थे। जिसके चलते मंगलवार को बैठक हुई। इस बैठक में एक बार फिर लवासा की मांग को खारिज कर दिया गया।

Election Commission Again Rejects Lavasa Demand These Steps Raised On Evm Complaints :

दरअसल, लवासा का मानना है कि आदर्श आचार संहिता उल्लंघन से जुड़े मामलों के असहमति पत्र सार्वजनिक किए जाएं। इसके अलावा बैठक में यह निर्णय लिया गया कि अल्पमत विचार केवल रिकॉर्ड का हिस्सा होंगे, उसे आदेश में शामिल नहीं किया जाएगा।

सूत्रों के हवाले से पता चला कि मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा और चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र ने माना कि आदर्श आचार संहिता से जुड़े मामले पूरी तरह से न्यायिक कार्यवाही नहीं हैं इसलिए इनमें असहमति या अल्पमत को अंतिम आदेश में शामिल नहीं किया जाएगा। केवल बहुमत का मत ही आदेश में प्रकाशित होगा।

साथ ही उन्होंने कहा कि किसी सदस्य की मतभिन्नता को मामले की सुनवाई के बाद अर्ध न्यायिक कार्यवाही में दर्ज किया जाता है। वहीं आदर्श आचार संहिता से जुड़े अल्पमत विचारों को केवल फाइलों में दर्ज किया जाता है। आयोग के एक अधिकारी ने कहा, ‘फाइलों की इन नोटिंग्स को लोग सूचना के अधिकार के तहत देख सकते हैं। चुनाव आयोग हमेशा से पारदर्शी रहा है और वह आगे भी पारदर्शी रहेगा।’

बता दें, पिछले दिनों अशोक लवासा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को आयोग द्वारा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन मामले में मिली क्लिनचिट और विपक्षी नेताओं को भेजे नोटिस पर सवाल खड़े किए थे। उनका कहना था कि आचार संहिता से जुड़े सभी कागजातों को सार्वजनिक किया जाना चाहिए।

इस मुद्दे को मद्देनजर रखते हुए मंगलवार को आयोग ने बैठक की थी। इस बैठक में मुख्य चुनाव आयुक्त के अलावा सुशील चंद्र और अशोक लवासा भी शामिल हुए। लवासा ने असहमति जताते हुए आयोग की बैठकों में जाना बंद कर दिया था। जिसके बाद से आयोग के अंदरुनी मतभेद सभी के सामने आ गए थे।

इतना ही नहीं चुनाव आयोग ने EVM संबंधी शिकायतों के तत्काल निस्तारण के लिए एक कंट्रोल रूम बनाया है जिसने मंगलवार से काम करना शुरु कर दिया है। आयोग द्वारा जारी बयान के अनुसार निर्वाचन सदन से संचालित कंट्रोल रूम चुनाव परिणाम आने तक 24 घंटे कार्यरत रहेगा। मतगणना के दौरान ईवीएम से संबंधित किसी भी शिकायत की सूचना कंट्रोल रूम के नंबर 011-2305212 पर दी जा सकती है।

नई दिल्ली। 17वीं लोकसभा चुनाव के नतीजे कुछ घंटों बाद आने वाले हैं। वहीं चुनाव आयोग के भीतर जारी मतभेद का मामला भी शांत नहीं हो रहा है। बताते चलें कि हाल ही में चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने आयोग के फैसले को लेकर कई सवाल उठाए थे। जिसके चलते मंगलवार को बैठक हुई। इस बैठक में एक बार फिर लवासा की मांग को खारिज कर दिया गया। दरअसल, लवासा का मानना है कि आदर्श आचार संहिता उल्लंघन से जुड़े मामलों के असहमति पत्र सार्वजनिक किए जाएं। इसके अलावा बैठक में यह निर्णय लिया गया कि अल्पमत विचार केवल रिकॉर्ड का हिस्सा होंगे, उसे आदेश में शामिल नहीं किया जाएगा। सूत्रों के हवाले से पता चला कि मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा और चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र ने माना कि आदर्श आचार संहिता से जुड़े मामले पूरी तरह से न्यायिक कार्यवाही नहीं हैं इसलिए इनमें असहमति या अल्पमत को अंतिम आदेश में शामिल नहीं किया जाएगा। केवल बहुमत का मत ही आदेश में प्रकाशित होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि किसी सदस्य की मतभिन्नता को मामले की सुनवाई के बाद अर्ध न्यायिक कार्यवाही में दर्ज किया जाता है। वहीं आदर्श आचार संहिता से जुड़े अल्पमत विचारों को केवल फाइलों में दर्ज किया जाता है। आयोग के एक अधिकारी ने कहा, 'फाइलों की इन नोटिंग्स को लोग सूचना के अधिकार के तहत देख सकते हैं। चुनाव आयोग हमेशा से पारदर्शी रहा है और वह आगे भी पारदर्शी रहेगा।' बता दें, पिछले दिनों अशोक लवासा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को आयोग द्वारा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन मामले में मिली क्लिनचिट और विपक्षी नेताओं को भेजे नोटिस पर सवाल खड़े किए थे। उनका कहना था कि आचार संहिता से जुड़े सभी कागजातों को सार्वजनिक किया जाना चाहिए। इस मुद्दे को मद्देनजर रखते हुए मंगलवार को आयोग ने बैठक की थी। इस बैठक में मुख्य चुनाव आयुक्त के अलावा सुशील चंद्र और अशोक लवासा भी शामिल हुए। लवासा ने असहमति जताते हुए आयोग की बैठकों में जाना बंद कर दिया था। जिसके बाद से आयोग के अंदरुनी मतभेद सभी के सामने आ गए थे। इतना ही नहीं चुनाव आयोग ने EVM संबंधी शिकायतों के तत्काल निस्तारण के लिए एक कंट्रोल रूम बनाया है जिसने मंगलवार से काम करना शुरु कर दिया है। आयोग द्वारा जारी बयान के अनुसार निर्वाचन सदन से संचालित कंट्रोल रूम चुनाव परिणाम आने तक 24 घंटे कार्यरत रहेगा। मतगणना के दौरान ईवीएम से संबंधित किसी भी शिकायत की सूचना कंट्रोल रूम के नंबर 011-2305212 पर दी जा सकती है।