निर्वाचन आयोग कर सकता है यूपी के कई आईपीएस अफसरों तबादले

लखनऊ। उतरप्रदेश में चुनाव का एलान हो चुका है। यूपी में सात चरणों में चुनाव होंगे, ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था एक अहम मुद्दा है। जिसे देखते हुये निर्वाचन आयोग प्रदेश के विभिन्न जिलों के प्रशासनिक अधिकारियों की फेर बदल कर सकता हैं। जिसमें यूपी के डेढ़ दर्जन से ज्यादा आईपीएस अफसरों को वर्तमान तैनाती से हटाकर नई तैनाती दी जा सकती है। इस सूची में यूपी के डीजीपी जविद अहमद, एडीजीएलओ दलजीत चौधरी जैसे यूपी पुलिस के शीर्ष अफसरों के नाम भी शामिल हैं। साथ ही राज्य के प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पांडा को भी हटाने के पूरे संकेत मिलते दिख हैं। ये सभी वे अफसर हैं जो यूपी की वर्तमान राज्य सरकार के करीबी माने जाते हैं।




सूत्रों की माने तो निर्वाचन आयोग ने गृह विभाग से प्रदेश के जनपदों में तैनात आईपीएस अफसरों का ब्यौरा पहले ही तलब कर लिया है। आयोग के साथ हुई यूपी के अन्य राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की बैठक के दौरान यह विषय सामने आया था कि यूपी के कई आईपीएस अधिकारियों का झुकाव सत्तारूढ़ दल और उसकी विचारधारा की ओर है। जिस वजह से इन अधिकारियों को महत्वपूर्ण तैनातियां दी गईं हैं, ये सभी अधिकारी चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं।




राजनीतिक दलों के विरोध पर निर्वाचन आयोग ने ऐसे आईपीएस अधिकारियों की सूची तैयार की है जिन्हें लेकर सवाल खड़े किये गए थे। आयोग द्वारा बनाई गई लिस्ट मे वो अफसर भी हैं जो हाल ही में प्रदेश सरकार द्वारा दी गई पदोन्नति के बाद पीपीएस से आईपीएस बनाए गए हैं। जिन पुलिस अधिकारियों को हटाने की पूरी संभावना है उसमें गौतमबुद्धनगर, आगरा, कुशीनगर, बाराबंकी, लखनऊ, मुरादाबाद, एटा और गाजीपुर समेत करीब 14 जनपदों के पुलिस कप्तानों के नाम शामिल हैं।