SHO ने दलाल बनकर बचाई नाबालिग की जिंदगी, GB रोड के कोठे पर बेचने की थी तैयारी

नई दिल्ली। दिल्ली के जीबी रोड में एक नाबालिग युवती की ज़िंदगी नर्क होते होते रह गयी, इसका पूरा श्रेय जाता है कमलनगर कोतवाली के SHO को। यहां 17 साल की एक लड़की को बेचने के लिए 3.5 लाख रुपए की बोली लगाई गई थी। लेकिन इन दलालों की योजना को पर पानी फेरते हुए दिल्ली कमला मार्केट के एसएचओ सुनील कुमार ने किसी तरह लड़की को उनके चंगुल से छुड़ा लिया।

वैसे तो दिल्ली की यह गली देह व्यपार के लिए बदनाम है, पुलिस की लाख चौकसी के बावजूद यहां देह व्यपार के धंधे पर कुछ खासा असर नहीं पड़ा। कमला मार्केट के एसएचओ सुनील कुमार को लगा कि इसे काबू में करने के लिए कोई नया पैतरा इजात करना पड़ेगा। जिसके बाद सुनील ने अपना मोबाइल नंबर कर जीडी रोड की गलियों में चस्पा करवा दिया। इस पर एसएचओ ने अपना नाम लड़कियों के खरीददार के रूप में लिखवाया था। यह इत्तेफाक ही कहा जा सकता है कि इस चाल के झांसे दो युवक आ गए जो नाबालिग को बेचने आए थे।

{ यह भी पढ़ें:- दिल्ली: महिला जज को अगवा करने की कोशिश, कैब ड्राइवर गिरफ्तार }

दरअसल, ये दलाल एसएचओ को कोठा मालिक समझ बैठे और उसने मोबाइल पर ही पूरी डील फिक्स कर ली। इस दौरान एसएचओ सुनील ने अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुए लड़की को बेचे जाने से बचा लिया। पुलिस सूत्रों के मुताबिक इस नाबालिग लड़की केा बिहार के एक गांव से लाया गया था। लड़की को इस बात का भनक तक नहीं था कि आखिर उसके साथ होने क्या जा रहा है।

इस षड़यंत्र में शामिल अमर और रंजीत ने लड़की पर इस कदर अपना प्रभाव जमाया हुआ था कि वह उनके कहने पर अपने मां-बाप को भी छोड़कर दिल्ली आ गई। इन लोगों ने लड़की को बेचने के लिए फोन पर दिल्ली के रेड लाइट एरिया माने जाने वाले जीबी रोड पर संपर्क साधा। इस धंधे में शामिल लोगों की चतुराई का आलम यह था कि लड़की को इस बात की भी भनक तक न लगी कि फोन पर उसका सौदा किया जा रहा है। कुछ समय बाद दोनों ओर से 3.5 लाख रुपए में डील पक्की गई।

फिर जैसे ही आरोपी लड़की को खरीदारों के सामने लाए। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया और लड़की को कस्टडी में ले लिया। पुलिस के मुताबिक अमर पहले से ही शादीशुदा है और जल्द पैसा कमाने के लालच में उसने नाबालिक लड़की को अपने जाल में फसाया। फिर अपने साथी रंजीत के साथ मिलकर उस लड़की को जीबी रोड पर बेचने की साजिश रच डाली।

{ यह भी पढ़ें:- केन्द्रीय गृहमंत्री के निवास पर तैनात सब-इंस्पेक्टर मेट्रो के सामने कूदा, मौत }

इसे आप लड़की की किस्मत ही कहेंगे कि आरोपियों ने इंटरनेट पर अपलोड वीडियो में नजर आए जिस मोबाइल नंबर को कोठा मालिक का नंबर समझा, वो नंबर एसएचओ का निकला। फिलहाल दोनों आरोपियों को एक दिन की रिमांड पर लिया गया है. लड़की को शेल्टर होम में रखा गया है। उसके परजिनों को संपर्क किया जा रहा है।

Loading...