1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. Elon Musk इंसानों दिमाग में फिट करेंगे छोटा चिप, जल्द शुरू होगा ट्रॉयल

Elon Musk इंसानों दिमाग में फिट करेंगे छोटा चिप, जल्द शुरू होगा ट्रॉयल

Elon Musk नए-नए एक्सपेरिमेंट करने के लिए मशहूर हैं। उनके नए एक्सपेरिमेंट की लिस्ट में इंसानों को रोबोट बनाने का प्रोजेक्ट शामिल हो गया है। बता दें कि एलन मस्क की कंपनी Neuralink इंसानों के दिमाग में छोटा कंप्यूटर फिट करने जा रही है। इस कंपनी के को-फाउंडर Elon Musk ने बताया कि इंसानों को चलता-फिरता रोबोट बनाने के प्रोजेक्ट पर पिछले चार सालों से काम किया जा रहा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। Elon Musk नए-नए एक्सपेरिमेंट करने के लिए मशहूर हैं। उनके नए एक्सपेरिमेंट की लिस्ट में इंसानों को रोबोट बनाने का प्रोजेक्ट शामिल हो गया है। बता दें कि एलन मस्क की कंपनी Neuralink इंसानों के दिमाग में छोटा कंप्यूटर फिट करने जा रही है। इस कंपनी के को-फाउंडर Elon Musk ने बताया कि इंसानों को चलता-फिरता रोबोट बनाने के प्रोजेक्ट पर पिछले चार सालों से काम किया जा रहा है।

पढ़ें :- यूपी देश के टॉप-4 राज्यों में शामिल, 75 लाख से अधिक नल कनेक्शन देने का आंकड़ा किया पार

Elon Musk की कंपनी की तरफ से अगले 6 माह में इंसानों के दिमाग में छोटा कंप्यूटर फिट करके उनका ट्रायल शुरु कर दिया जाएगा। Neuralink की तरफ से एक शो कनेक्ट होस्ट करके उसके बारे में जानकारी दी गई है कि आखिर कैसे इस टेक्नोलॉजी का इंसानी दिमाग में कैसे इस्तेमाल किया गया?

जानें क्या है Neuralink?

Neuralink का मकसद एक ऐसा प्रोडक्ट बनाना है, जिससे इंसानी दिमाग को कंप्यूटर की तरह विकसित किया जा सकेगा। मतलब कंप्यूटर की तरह इंसान फास्ट स्पीड से सोच सकेंगे। इसे ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस कंपनी के नाम से पेश किया गया है।
इंसानों के दिमाग में फिट होगी चिप
Neuralink कंपनी इंसानों के दिमाग मे एक चिप फिट कर देगा, जिसकी मदद से कंप्यूटर को कंट्रोल किया जा सकेगा। मतलब जैसे ही कोई चीज आप अपने दिमाग में सोचेंगे, तो कंप्यूटर उस काम को कर देगा। इसके लिए आपको अलग से कंप्यूटर को कंट्रोल नहीं देना होगा।
जानवरों पर किया जा रहा है ट्रॉयलइस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल सुअर और बंदरों पर किया जा रहा है। कंपनी की तरफ से एक ऐसे ही बंदर को कंप्यूटर कंट्रोल करते हुए दिखाया गया है। इसमें बंदर के दिमाग में एक छोटी से चिप फिट की गई है।​रिप्लेस कर पाएंगे चिप

इस इवेंट में मस्क ने कहा कि कंप्यूटर चिप को इंसानों कि दिमाग या फिर पेट में फिट किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि इसे दिमाग और पेट से आसानी से रिप्लेस किया जा सकेगा। इसमें करीब 15 मिनट लगेंगे। बता दें कि इस चिप को चार्ज करना होगा। इसमें वायरस चार्जिंग सपोर्ट मिलेगा।

पढ़ें :- Budget 2023: लोगों को बजट से क्या हैं उम्मीदें? किसानों के लिए किए जा सकते हैं खास ऐलान

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...