मुंबई में हादसे का पुल: मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की घोषणा, घायलों को मुफ्त इलाज

मुंबई। मुंबई में परेल-एल्फिंस्टन स्टेशनों को जोड़ने वाले एक संकरे रेलवे फुटओवर ब्रिज पर मची भगदड़ में 22 यात्रियों की मौत हुई है। इस घटना में कम से कम 32 लोग घायल हो गए हैं, जिनमें से छह की हालत गंभीर है और मृतकों का आंकड़ा बढ़ने की आशंका है। बीएमसी के एक अधिकारी के मुताबिक, मृतकों में 18 पुरुष व चार महिलाएं शामिल हैं। जबकि 23 पुरुष व नौ महिलाएं घायल हैं, जिनका इलाज जारी है।

घायलों को परेल के कीईएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है। महाराष्ट्र सरकार ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए देने की घोषणा की है. इसके अलावा महाराष्ट्र सरकार ने घोषणा की है कि घायलों के इलाज का खर्च राज्य सरकार उठाएगी। घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि इलेक्ट्रिक शॉर्ट सर्किट की अफवाह के बाद यह भगदड़ हुई।

{ यह भी पढ़ें:- पटना यूनिवर्सिटी में पीएम मोदी ने दिया दिवाली का तोहफा, 20 यूनिवर्सिटी को दिया 10 हजार करोड़ का फंड }

अधिकारियों ने हालांकि अचानक बारिश होने से पुल पर भारी संख्या में लोगों की भीड़ को जिम्मेदार ठहराया है। बारिश से बचने के लिए अधिक संख्या में लोग पुल पर इकट्ठा हो गए थे। घटना के बाद बचाव दल के मौके पर पहुंचने से पहले स्थानीय कैब चालकों और दुकानदारों ने घायलों को अस्पताल पहुंचाने में मदद की।

महाराष्ट्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा और घायलों को मुफ्त इलाज देने की घोषणा की है। महाराष्ट्र के शिक्षामंत्री विनोद तावड़े ने कहा, हमने इस त्रासदी की जांच के आदेश दिए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीड़ित परिवारों के प्रति अपनी संवेदना जताई है।

{ यह भी पढ़ें:- सीएम योगी ने राहुल गांधी को कहा 'भगोड़ा' }

शिवसेना ने मांगा रेलमंत्री का इस्तीफा-

वहीं, शिवसेना ने इस घटना पर अपनी त्वरित प्रतिक्रिया में गोयल से इस्तीफे की मांग की है और साथ ही सभी पीड़ितों को पर्याप्त मुआवजा और मुंबई के यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तत्काल उपायों को प्राथमिकता देने के लिए भी कहा है।

{ यह भी पढ़ें:- PM मोदी के 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' के पोस्टर में अलगाववादी नेता की तस्वीर }