ए​लफिंस्टन रोड स्टेशन पर हुई 22 मौतों का जिम्मेदार कौन…?

ए​लफिंस्टन रोड स्टेशन पर हुई 22 मौतों का जिम्मेदार कौन...?

मुंबई। मुंबई लोकल ट्रेन के एलफिंस्टन रोड स्टेशन पर शुक्रवार को हुए हादसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 22 हो गई है, जबकि 30 यात्रियों का गंभीर हालत में इलाज चल रहा है। एलफिंस्टन रोड स्टेशन के बारे में कहा जाता है कि यह स्टेशन मुंबई लोकल की वेस्टर्न लाइन पर स्थित है, जिसे एक फुटओवर ब्रिज के द्वारा सेन्ट्रल लाइन के परेल स्टेशन से जोड़ा गया है। पिछले कुछ सालों में एलफिंस्टन स्टेशन के आस पास के इलाकों में बने कार्पोरेट आॅफिसों ने इस स्टेशन पर यात्रियों की संख्या को करीब 10 गुना कर दिया है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस स्टेशन पर भीड़ तो बढ़ी लेकिन रेलवे प्रशासन ने उस भीड़ को नजरंदाज करते हुए स्टेशन के इंफ्रास्ट्रक्चर को लेकर कोई योजना नहीं बनाई।

स्थानीय लोगों की माने तो लंबे समय से इस स्टेशन पर नए फुटओवर ब्रिज के​ निर्माण की मांग की गई, लेकिन न तो सरकार के कान पर जूं रेंगा और न ही रेलवे प्रशासन ने इस मांग को गंभीरता से लिया। इस दौरान स्टेशन पर यात्रियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, लेकिन इसका पूरा दबाव 106 साल पुराने सकरे से एलफिंस्टन ब्रिज के ऊपर ही है। यह स्टेशन वेस्टर्न और सेंट्रल लाइन को जोड़ता है, इस लिहाज से एलफिंस्टन स्टेशन का ब्रिज हमेशा से व्यस्त रहा है। स्टेशन पर यात्रियों की संख्या बढ़ने के साथ इस ब्रिज पर सुबह और शाम धक्कामुक्की के हालात पैदा हो जाते हैं।

{ यह भी पढ़ें:- रेलवे ने केन्द्रीय मंत्री के निजी सचिव के लिये जोड़ा अतिरिक्त कोच, भटकते रहे मुसाफिर }

स्टेशन के विकास के नाम पर केवल नाम बदला सूरत नहीं —

इस स्टेशन से नियमित रूप से आने जाने वाले यात्रियों की माने तो कई बार रेलवे प्रशासन को इस पुल से होने वाली दिक्कतों के बारे में अवगत करवाया गया। नेताओं को भी इस समस्या की जानकारी दी गई आश्वासन भी मिला, लेकिन विकास के नाम पर कोई निर्माण करवाने के बजाय स्टेशन का नाम ए​लफिंस्टन से बदल कर प्रभा देवी कर दिया गया।

{ यह भी पढ़ें:- चूहों ने कुतर डाला मरीज का पैर-आंख, डॉक्टर बोले- 10 रुपये में यही मिलेगा }

कार्पोरेट आॅफिसों ने आने से बढ़ी एलफिंस्टन स्टेशन की अहमियत —

एलफिंस्टन रोड स्टेशन वर्ली और प्रभादेवी जैसे इलाकों को मुंबई लोकल से कनेक्टविटी देता है। पिछले कुछ वर्षों के दौरान रियल स्टेट कारोबारियों ने इस इलाकों को अपना नया ठिकाना बनाया है। जिस वजह से यहां इंड़िया बुल्स जैसे कई बड़े कार्पोरेट आफिसों इसी इलाके में बनाए है। नए आॅफिसों के खुलने की वजह से एलफिंस्टन स्टेशन पर यात्रियों की संख्या करीब 10 गुनी हो गई है।

{ यह भी पढ़ें:- मोदी पर गरजे राज ठाकरे, बोले- अगली रैली शांतीपूर्ण नहीं होगी }