तेलंगाना गैंगरेप पर मंत्री का शर्मनाक बयान- कहा, पुलिस की जगह बहन को क्यों किया फोन?

Embarrassing statement of the minister on the Telangana
तेलंगाना गैंगरेप पर मंत्री का शर्मनाक बयान- कहा, पुलिस की जगह बहन को क्यों किया फोन?

हैदराबाद। तेलंगाना में 27 वर्षीय लेडी डॉक्टर का वहशी दरिंदो ने बन्धक बनाकर गैंगरेप किया फिर उसे जिन्दा जलाकर एक सूनसान जगह फेंक दिया। रात भर परिजन उसे खोजते रहे, जब दूसरे दिन सुबह उसका जला हुआ शव मिला तो कोहराम मच गया। जहां एक तरफ सड़क पर ऐसी हैवानियत की घटना को अंजाम दिया गया वहीं दूसरी तरफ तेलंगाना प्रदेश के ग्रह मंत्री ने म्रतका पर ही सवाल उठाते हुए शर्मनाक बयान दिये हैं।

Embarrassing Statement Of The Minister On The Telangana Gang Rape Said Why Did The Victim Call The Sister Instead Of The Police :

तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार में गृह मंत्री महमूद अली महमूद ने विवादित बयान देते हुए कहा कि- ‘वह एक डॉक्टर थी.. वह पढ़ी लिखी थी… उसने क्यों अपनी बहन को फोन किया? उसे 100 नंबर पर पहले कॉल करना चाहिए था.’ इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर मंत्री जी की आलोचना होना शुरू हो गयी है। लोगों का कहना है कि एक परिवार ने अपनी बेटी खो दिया और मंत्री जी सरकार व प्रशासन को बचाने के लिए म्रतका पर ही सवाल उठा रहे हैं।

वहीं इस मामले में हैदराबाद की सायबराबाद थाने की पुलिस ने अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि जिस गाड़ी से डॉक्टर को ले जाया गया, इसमें दो गाड़ी के ड्राइवर और एक क्लीनर है। पुलिस के मुताबिक हिरासत में लिए गये आरोपितों की पहचान मोहम्मद पाशा, नवीन, केशावुलु और शिवा के तौर पर हुई है। पुलिस का दावा है कि पहले इन लोगों ने पीड़िता को किडनैप किया और फिर उसके साथ गैंग रेप किया। आरोपियों ने सबूत मिटाने के लिए उसे जिन्दा जला दिया।

आपको बता दें कि सरकारी अस्पताल में सहायक पशुचिकित्सक प्रियंका रेडडी जब बुधवार शाम हैदराबाद में अपने घर जा रही थीं तभी रास्ते में उसकी स्कूटी पंक्चर हो गयी थी। उसकी बहन का कहना है कि इस बात की जानकारी देने के लिए प्रियंका ने उसे फोन किया था। फोन पर प्रियंका ने कहा था कि उसकी स्कूटी हाईवे पर पंक्चर हो गयी है, उसे डर लग रहा है, इस बात पर बहन ने कहा कि स्कूटी वहीं खड़ी करके किसी टैक्सी से घर आ जाओ। इसी बीच प्रियंका ने फोन काट दिया और बाद में उसका फोन बन्द हो गया।

हैदराबाद। तेलंगाना में 27 वर्षीय लेडी डॉक्टर का वहशी दरिंदो ने बन्धक बनाकर गैंगरेप किया फिर उसे जिन्दा जलाकर एक सूनसान जगह फेंक दिया। रात भर परिजन उसे खोजते रहे, जब दूसरे दिन सुबह उसका जला हुआ शव मिला तो कोहराम मच गया। जहां एक तरफ सड़क पर ऐसी हैवानियत की घटना को अंजाम दिया गया वहीं दूसरी तरफ तेलंगाना प्रदेश के ग्रह मंत्री ने म्रतका पर ही सवाल उठाते हुए शर्मनाक बयान दिये हैं। तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार में गृह मंत्री महमूद अली महमूद ने विवादित बयान देते हुए कहा कि- 'वह एक डॉक्टर थी.. वह पढ़ी लिखी थी... उसने क्यों अपनी बहन को फोन किया? उसे 100 नंबर पर पहले कॉल करना चाहिए था.' इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर मंत्री जी की आलोचना होना शुरू हो गयी है। लोगों का कहना है कि एक परिवार ने अपनी बेटी खो दिया और मंत्री जी सरकार व प्रशासन को बचाने के लिए म्रतका पर ही सवाल उठा रहे हैं। वहीं इस मामले में हैदराबाद की सायबराबाद थाने की पुलिस ने अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि जिस गाड़ी से डॉक्टर को ले जाया गया, इसमें दो गाड़ी के ड्राइवर और एक क्लीनर है। पुलिस के मुताबिक हिरासत में लिए गये आरोपितों की पहचान मोहम्मद पाशा, नवीन, केशावुलु और शिवा के तौर पर हुई है। पुलिस का दावा है कि पहले इन लोगों ने पीड़िता को किडनैप किया और फिर उसके साथ गैंग रेप किया। आरोपियों ने सबूत मिटाने के लिए उसे जिन्दा जला दिया। आपको बता दें कि सरकारी अस्पताल में सहायक पशुचिकित्सक प्रियंका रेडडी जब बुधवार शाम हैदराबाद में अपने घर जा रही थीं तभी रास्ते में उसकी स्कूटी पंक्चर हो गयी थी। उसकी बहन का कहना है कि इस बात की जानकारी देने के लिए प्रियंका ने उसे फोन किया था। फोन पर प्रियंका ने कहा था कि उसकी स्कूटी हाईवे पर पंक्चर हो गयी है, उसे डर लग रहा है, इस बात पर बहन ने कहा कि स्कूटी वहीं खड़ी करके किसी टैक्सी से घर आ जाओ। इसी बीच प्रियंका ने फोन काट दिया और बाद में उसका फोन बन्द हो गया।