एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा का मुंबई पुलिस से इस्तीफा, जल्द राजनीति में करेंगे एंट्री

pradeep
एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा का मुंबई पुलिस से इस्तीफा, जल्द राजनीति में करेंगे एंट्री

मुंबई। एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा ने महाराष्ट्र पुलिस सेवा से इस्तीफा दे दिया है 100 से ज्यादा एनकाउंटर कर चुके प्रदीप शर्मा फिलहाल ठाणे क्राइम ब्रांच में तैनात थे। उन्होंने अपने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। हालांकि, उनके करीबी सूत्रों ने कहा कि वह अक्टूबर में होने वाला महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने वीआरएस की ऐप्लिकेशन दी है। सूत्रों के अनुसार, उन्होंने 4 जुलाई को महाराष्ट्र के डीजीपी सुबोध कुमार जायसवाल को इस संबंध में अर्जी दी थी।

Encounter Specialist Pradeep Sharma Resigns From Mumbai Police May Join Politics :

कई साल सस्पेंड रहे प्रदीप शर्मा

प्रदीप शर्मा हाल ही में कई सालों के सस्पेंशन के बाद नौकरी पर वापस लौटे थे। दरअसल प्रदीप को गैंगस्टर लखन भईया का फर्जी एनकाउंटर करने के आरोप में सस्पेंड किया गया था। प्रदीप शर्मा के साथ कुल 13 पुलिसकर्मी इस मामले में 2008 में सस्पेंड किए गए थे। साल 2013 में आए फैसले में प्रदीप शर्मा को दोषमुक्त कर दिया गया और वे नौकरी में वापस आए। उस समय तत्कालीन कांग्रेस-एनसीपी सरकार उनको सेवा में दोबारा से लेने की इच्छुक नहीं थी, लेकिन जब उन्होंने चेतावनी दी कि अगर उनको दोबारा से बहाली नहीं दी गई, तो वो राजनीति जॉइन कर लेंगे, तो उनको बहाल कर दिया गया।

दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को गिरफ्तार किया था

मालूम हो कि ठाणे एंटी एक्सटॉर्शन सेल में रहते हुए प्रदीप शर्मा ने एक्सटॉर्शन के मामले में दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को गिरफ्तार किया, जिसपर मकोका के तहत मामला चल रहा है। साथ ही उन्होंने बुकी सोनु जलाना और इंटरनेशनल डी-कंपनी के बेटिंग सिंडिकेट को तोड़ा। जिसमें अभिनेता अरबाज खान सहित कई नामी कलाकारों के बेटिंग की जानकारी उभरकर सामने आई थी।

अंडरवर्ल्ड पर अपनी नजरें टेढ़ी करनी शुरू कर दी थी

प्रदीप शर्मा ने जब मुंबई में कदम रखा, तब अंडरवर्ल्ड अपने चरम पर था। दाऊद इब्राहिम, छोटा राजन जैसे नामी अपराधी पुलिस की हिट लिस्ट में थे। शर्मा ने आते ही अंडरवर्ल्ड पर अपनी नजरें टेढ़ी करनी शुरू कर दी और दो नामी बदमाशों का एनकाउंटर किया। इसके बाद मुंबई में उनका नाम गूंजने लगा।

मुंबई। एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा ने महाराष्ट्र पुलिस सेवा से इस्तीफा दे दिया है 100 से ज्यादा एनकाउंटर कर चुके प्रदीप शर्मा फिलहाल ठाणे क्राइम ब्रांच में तैनात थे। उन्होंने अपने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। हालांकि, उनके करीबी सूत्रों ने कहा कि वह अक्टूबर में होने वाला महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने वीआरएस की ऐप्लिकेशन दी है। सूत्रों के अनुसार, उन्होंने 4 जुलाई को महाराष्ट्र के डीजीपी सुबोध कुमार जायसवाल को इस संबंध में अर्जी दी थी। कई साल सस्पेंड रहे प्रदीप शर्मा प्रदीप शर्मा हाल ही में कई सालों के सस्पेंशन के बाद नौकरी पर वापस लौटे थे। दरअसल प्रदीप को गैंगस्टर लखन भईया का फर्जी एनकाउंटर करने के आरोप में सस्पेंड किया गया था। प्रदीप शर्मा के साथ कुल 13 पुलिसकर्मी इस मामले में 2008 में सस्पेंड किए गए थे। साल 2013 में आए फैसले में प्रदीप शर्मा को दोषमुक्त कर दिया गया और वे नौकरी में वापस आए। उस समय तत्कालीन कांग्रेस-एनसीपी सरकार उनको सेवा में दोबारा से लेने की इच्छुक नहीं थी, लेकिन जब उन्होंने चेतावनी दी कि अगर उनको दोबारा से बहाली नहीं दी गई, तो वो राजनीति जॉइन कर लेंगे, तो उनको बहाल कर दिया गया। दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को गिरफ्तार किया था मालूम हो कि ठाणे एंटी एक्सटॉर्शन सेल में रहते हुए प्रदीप शर्मा ने एक्सटॉर्शन के मामले में दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को गिरफ्तार किया, जिसपर मकोका के तहत मामला चल रहा है। साथ ही उन्होंने बुकी सोनु जलाना और इंटरनेशनल डी-कंपनी के बेटिंग सिंडिकेट को तोड़ा। जिसमें अभिनेता अरबाज खान सहित कई नामी कलाकारों के बेटिंग की जानकारी उभरकर सामने आई थी। अंडरवर्ल्ड पर अपनी नजरें टेढ़ी करनी शुरू कर दी थी प्रदीप शर्मा ने जब मुंबई में कदम रखा, तब अंडरवर्ल्ड अपने चरम पर था। दाऊद इब्राहिम, छोटा राजन जैसे नामी अपराधी पुलिस की हिट लिस्ट में थे। शर्मा ने आते ही अंडरवर्ल्ड पर अपनी नजरें टेढ़ी करनी शुरू कर दी और दो नामी बदमाशों का एनकाउंटर किया। इसके बाद मुंबई में उनका नाम गूंजने लगा।