लालू की बेटी मीसा के तीन ठिकानों पर ED की छापेमारी

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 1,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की बेनामी संपत्ति के मामले में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती से जुड़े तीन विभिन्न स्थानों पर छापेमारी की। कुछ दिन पहले, इसी मामले में ईडी ने मीसा भारती और उनके पति शैलेष से पूछताछ की थी। ईडी ने 22 मई को दिल्ली से चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश कुमार अग्रवाल को गिरफ्तार किया था, जो कथित तौर पर भारती से जुड़ा है।

आयकर अधिकारियों ने इस मामले में 21 जून को भारती से पांच घंटे पूछताछ की थी। आईटी अधिकारियों के सामने भारती की पेशी विभाग द्वारा उनके पति शैलेष कुमार, भाइयों- बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव सहित अन्य रिश्तेदारों की 12 से अधिक संपत्तियां बेनामी लेनदेन अधिनियम, 1988 के तहत कुर्क किए जाने के एक बाद हुई।

{ यह भी पढ़ें:- लालू प्रसाद के बेटे की दिवाली पर सलाह, 'पटाखा से अच्छा बैलून फुलाइए और फोड़िए' }

आयकर विभाग ने दिल्ली में लालू के रिश्तेदार की दो संपतियां और बिहार में कई संपतियां कुर्क की। इससे पहले विभाग ने 1988 के अधिनियम नई दिल्ली, 8 जुलाई (आईएएनएस)| प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 1,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की बेनामी संपत्ति के मामले में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती से जुड़े तीन विभिन्न स्थानों पर छापेमारी की।

ईडी को शक है कि कारोबारी बीरेंद्र जैन और सुरेंद्र कुमार जैन ने करीब 8000 करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग की है। जैन ब्रदर्स ने ही मीसा को मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए दिल्ली के बिजवासन में करीब डेढ़ करोड़ का फार्म हाउस दिलाया। मई में इसी मनी लॉन्ड्रिंग केस में भारती के चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीएम) राजेश अग्रवाल को एन्फोर्समेंट डिपार्टमेंट ने अरेस्ट कर किया था। इस मामले में शेल कंपनियों के कारोबारी बीरेंद्र जैन और सुरेंद्र कुमार जैन की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है। फिलहाल वो जेल में हैं। उन पर कई हाई-प्रोफाइल लोगों की ब्लैकमनी को व्हाइट करने का आरोप है।

{ यह भी पढ़ें:- मीसा भारती के फार्म हाउस को ईडी ने किया अटैच, बढ़ सकतीं हैं मुश्किलें }