अगर अचानक किसी को आ जाए मिर्गी का दौरा तो क्या करें?

अगर अचानक किसी को आ जाए मिर्गी का दौरा तो क्या करें?
अगर अचानक किसी को आ जाए मिर्गी का दौरा तो क्या करें?

Epilepsy And Treatment

लखनऊ। क्या आप जानते है मिर्गी क्या होती है और अगर किसी को मिर्गी आ जाए तो क्या करे? कई बार लोगों को जेनेटिक या फिर ब्रेन में किसी तरह की चोट लगने के कारण मिर्गी की प्रॉब्लम हो जाती है। इसे ब्रेन से रिलेटेड क्रोनिक बीमारी कहते हैं। ऐसी स्थिति में व्यक्ति की बॉडी पर लड़खड़ाना, बेहोशी आना, गिर पड़ना या हाथ-पांव में झटके लगना जैसे संकेत दिखते हैं। अगर किसी व्यक्ति को मिर्गी आ जाए तो सावधानी बरतकर पेशेंट की बॉडी को नुकसान होने से बचाया जा सकता है।

मिर्गी के दौरान ध्यान रखें ये बातें…

  • पेशेंट को पेट के बल या करवट लेटा दें। इस दौरान पेशेंट का मुंह नीचे की तरह होना चाहिए।
  • मुहं में चम्मच या उंगली न डालें इससे पेशेंट को नुकसान पहुंच सकता है।
  • मिर्गी आने पर व्यक्ति को पकड़ें नहीं या उसकी हरकतों को रोकने की कोशिश न करें।
  • आसपास मौजूद किसी भी तरह की नुकीली चीज हटा दें। इससे चोट लग सकती है।
  • पीड़ित व्यक्ति के सिर के नीचे कोई मुलायम चीज या तकिया रखें ताकि सिर पर चोट ना लग पाए।
  • पेशेंट को फ्रैश हवा आने दें, ज्यादा भीड़ इकट्ठी न करें ताकि सांस लेने में दिक्कत न हो।
  • मुंह के जरिए पीड़ित व्यक्ति के मुंह में हवा देने की कोशिश भी न करें।
  • व्यक्ति के साथ तब तक रहें जब तक दौरा अपने आप ठीक न हो जाए।
  • अगर दौरे के समय व्यक्ति को किसी तरह की चोट लगी है या कंडीशन सीरियस लग रही है तो कुछ समय बाद नॉर्मल हो जाने पर उसे नजदीकी हॉस्पिटल ले जाएं।
लखनऊ। क्या आप जानते है मिर्गी क्या होती है और अगर किसी को मिर्गी आ जाए तो क्या करे? कई बार लोगों को जेनेटिक या फिर ब्रेन में किसी तरह की चोट लगने के कारण मिर्गी की प्रॉब्लम हो जाती है। इसे ब्रेन से रिलेटेड क्रोनिक बीमारी कहते हैं। ऐसी स्थिति में व्यक्ति की बॉडी पर लड़खड़ाना, बेहोशी आना, गिर पड़ना या हाथ-पांव में झटके लगना जैसे संकेत दिखते हैं। अगर किसी व्यक्ति को मिर्गी आ जाए तो सावधानी बरतकर…