1. हिन्दी समाचार
  2. खेल
  3. Winter Olympics 2022: चीन को बड़ा झटका, 2022 बीजिंग ओलंपिक के बहिष्कार का ऐलान किया

Winter Olympics 2022: चीन को बड़ा झटका, 2022 बीजिंग ओलंपिक के बहिष्कार का ऐलान किया

दुनिया में ड्रैगन के नाम से मशहूर चीन अपनी नीतीयों ओर चालबाजियों के कारण दुनिया के निगाह में किसकिरी बनता जा रहा है। पहले ही कोरोना को लेकर पूरी दुनिया में उसकी थू थू हो रही है, अब ड्रैगन के मेजबानी को लेकर उसका बहिष्कार किया जा रहा है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

नई दिल्ली: दुनिया में ड्रैगन के नाम से मशहूर चीन अपनी नीतीयों ओर चालबाजियों के कारण दुनिया के निगाह में किसकिरी बनता जा रहा है। पहले ही कोरोना को लेकर पूरी दुनिया में उसकी थू थू हो रही है, अब ड्रैगन के मेजबानी को लेकर उसका बहिष्कार किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि यूरोपीय संसद ने शीतकालीन ओलंपिक के बहिष्कार का ऐलान कर दिया है। साल 2022 यानी अगले ही साल चीन के बीजिंग में शीतकालीन ओलंपिक खेल होने हैं। यूरोपिया संसदों ने इस पर आमराय बनाते हुए कहा है कि चीन के मानवाधिकारों के हनन के कारण हमें 202 बीजिंग ओलंपिक का बहिष्कार करना चाहिए। इसके साथ ही सांसदों ने सरकार से मांग की है कि उइगर मुसलमानों को लेकर चीन जो व्यवहार कर रहा है, ऐसे में उस पर और अधिक प्रतिबंध लगाने चाहिए। इस प्रस्ताव को रेइनहार्ड बुटिकोफर ने पेश किया है।

पढ़ें :- China: वुहान में एक साल बाद मिला पहला कोरोना केस, पूरी आबादी का होगा टेस्ट

यूरोपीय सांसदों का कहना है कि चीन के साथ प्रत्यर्पण संधि भी जल्द से जल्द खत्म की जानी चाहिए। उन्होंने बीजिंग ओलंपिक के डिप्लोमेटिक बॉयकाट के लिए भी कहा है। उनका कहना है कि इन सब मामलों को लेकर आम सहमति काफी मजबूत है, साथ ही यह भी तय किया जाएगाा कि यूराप में राज्य सरकारें भी एक अडिग रुख अपनाएं। यहां यह भी खास बात है कि यूरोपिया सांसदों का प्रस्ताव मानने के लिए सदस्य देश किसी भी तरह से बाध्य नहीं हैं। रेइनहार्ड बुटिकोफर का कहना है कि यूरोपिय संघ के सदस्य देश और यूरोपिय आयोग भी हॉन्ग कॉन्ग में चीन के दमन के खिलाफ बोलने के लिए इच्छुक नजर नहीं आ रहा है।

दूसरी तरफ इस पूरे मामले का चीन ने भी कड़ा विरोध जताया है। चीन में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन का कहना है कि चीन खेल के राजनीतिकरण और मानवाधिकारों के मुददे को बहाना बनाकर हमारे आंतरिक मामले में हस्तक्षेप करने का कड़ा विरोध करता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...