यूपी पुलिस का ‘शूटआउट’ अभियान जारी, इटावा में कुख्यात अपराधी सुंदर यादव ढेर

लखनऊ। यूपी पुलिस ने अपराधियों पर नकेल कसने के लिये कमर कस ली है। सीएम योगी आदित्यनाथ के सख्त निर्देश के बाद पुलिस अब एक्शन में नजर आ रही है। हाल ही में पुलिस महकमे ने कुछ आंकड़े जारी किये थे, जिसमें छह महीने के अंदर बदमाशों से 480 मुठभेड़ और 15 के एंकाउंटर का जिक्र है। ताजा मामला इटावा का है, जहां पुलिस ने 15000 के इनामी कुख्यात अपराधी और शार्प शूटर सुंदर यादव को मार गिराया। वहीं मुठभेड़ में एसओ समेत तीन पुलिसकर्मी गंभीर रुप से घायल हुए हैं। सभी पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए डॉ भीमराव अंबेडकर ज्वाइंट हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।
इटावा के एसएसपी वैभव कृष्ण के मुताबिक, सोमवार सुबह इटावा पुलिस को इस बात का खबर मिली थी कि 15 हजार का ईनामी बदमाश सुंदर यादव अपने गैंग के सदस्यों के साथ इसी इलाके से गुजरने वाला है। पुलिस ने घेराबंदी कर सुंदर यादव को पकड़ने की कोशिश की। इस दौरान बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद पुलिस को जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी।
दोनों तरफ से चली गोली में सुंदर यादव को गोली लगी। इस दौरान सुंदर यादव घायल हो गया। इलाज के लिए सैफई के मिनी पीजीआई भेजा गया। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वहीं इस मुठभेड़ में शामिल बकेवर एसओ आलोक राय व क्राइम ब्रान्च के दो सिपाही भी गंभीर रुप से घायल हुए हैं। पुलिस ने एसओ समेत घायल दोनों पुलिस कर्मियों को जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया है। सिर में गोली लगने से अब तक बेहोश चल रहे एसओ बकेवर आलोक राय की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है।

बदमाश सुंदर यादव

बताते चलें सुंदर यादव इटावा, मैनपुरी, एटा, फर्रुखाबाद, आगरा आदि जिलों में कई संगीन वारदातों को अंजाम दे चुका है। उस पर 18 आपराधिक मामले दर्ज हैं। सुंदर यादव समाजवादी पार्टी के नेता राजवीर सिंह हत्याकांड का मुख्य आरोपी था। सुंदर यादव समेत चार बदमाशों को 15 जून 2016 को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन अदालत में पेशी जाने के वक्त सुंदर यादव पुलिस को चकमा देकर के फरार हो गया था।

{ यह भी पढ़ें:- संगीत सोम ने ताजमहल को बताया भारतीय संस्कृति पर धब्बा, ओवैसी ने किया पलटवार }