1. हिन्दी समाचार
  2. इथियोपिया के PM अबी अहमद अली को मिला नोबेल शांति पुरस्‍कार

इथियोपिया के PM अबी अहमद अली को मिला नोबेल शांति पुरस्‍कार

By रवि तिवारी 
Updated Date

Ethiopian Prime Minister Abiy Ahmed Nobel Peace Prize

नई दिल्ली। दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार नोबेल पीस प्राइज (Nobel Peace Prize) इस साल इथियोपिया के प्रधानमंत्री (Ethiopian Prime Minister) को दिया जाएगा। शांति और अंतरराष्‍ट्रीय सहयोग प्राप्‍त करने के प्रयासों के लिए खासकर इरीट्रिया के साथ सीमा संघर्ष को हल करने के लिए उनकी निर्णायक पहल के लिए नोबेल शांति पुरस्कार 2019 पुरस्‍कार प्रदान किया जाएगा। बता दें कि नोबेल शांति पुरस्कार की घोषणा नॉर्वे की संसद की ओर से चुनी गई पांच सदस्यीय समिति करती है।
   
43 साल के अबी अहमद अप्रैल 2018 में इथोपिया के प्रधानमंत्री बने थे। उन्होंने उसी समय स्पष्ट कर दिया था कि वह इरिट्रिया के साथ शांति वार्ता को बहाल करेंगे। उन्होंने इरिट्रिया के राष्ट्रपति इसैयस अफवर्की के साथ मिलकर तुरंत इस दिशा में पहल शुरू की।

पढ़ें :- Lamborghini ने इलेक्ट्रिक वाहनों की योजना किया ऐलान, पहली इलेक्ट्रिक सुपरकार को 2030 तक किया जाएगा पेश

पिछले साल ही इथोपिया और इरिट्रिया ने सीमा विवाद को हल करने के लिए शांति समझौता किया। इस तरह 20 सालों से दोनों देशों में चल रहा सैन्य तनाव खत्म हुआ। 1998 से 2000 के बीच दोनों देशों के बीच युद्ध चला था। अबी अहमद अली शांति के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाले 100वें शख्स/संस्था हैं।

क्यों दिया जाता है नोबेल पुरस्कार?

अल्फ्रेड नोबेल का जन्म स्वीडन में 21 अक्टूबर 1833 को हुआ था। अल्फ्रेड रसायनशात्री और इंजीनियर थे। 10 दिसंबर 1896 को इटली के सौन रेमो में अल्फ्रेड नोबेल का निधन हुआ। युद्ध में भारी तबाही मचाने वाले अपने अविष्कारों को लेकर अल्फ्रेड नोबेल भारी पश्चाताप था इसलिए उन्होंने अपनी पूरी संपत्ति का इस्तेमाल मानव हित के लिए किए गए आविष्कारों में करने का फैसला लिया और नोबेल फाउंडेशन की स्थापना की। उन्होंने अपनी वसीयत में हर साल भौतिकी, रसायन, चिकित्सा, साहित्य और शांति के क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को पुरस्कार देने की घोषणा की।

नोबेल पुरस्कार में क्या मिलता है?

पढ़ें :- 612 अंक उछलकर सेंसेक्स 50200 के करीब और निफ्टी 15100 के पार हुआ बंद

नोबेल पुरस्कार के हर विजेता को करीब साढ़े चार करोड़ रुपए की राशि दी जाती है। इसके साथ 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है। पदक के एक ओर नोबेल पुरस्कार के जनक अल्फ्रेड नोबेल की छवि, उनके जन्म तथा मृत्यु की तारीख लिखी होती है। पदक की दूसरी तरफ यूनानी देवी आइसिस का चित्र, रॉयल एकेडमी ऑफ साइंस स्टॉकहोम तथा पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति की जानकारी होती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X