1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. सात महीने बाद भी कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का प्रदर्शन जारी, राज्यपाल को सौपेंगे ज्ञापन

सात महीने बाद भी कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का प्रदर्शन जारी, राज्यपाल को सौपेंगे ज्ञापन

नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का चल रहा विरोध प्रदर्शन खत्म नहीं हो रहा है। किसान तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं। बीते करीब सात महीनों से किसानों का प्रदर्शन जारी है। अपनी मांगों को लेकर किसानों का जज्बा बिल्कुल कम नहीं हुआ है। वे अब भी तीनों कानूनों को वापस लिए जाने की मांग पर अड़े हुए हैं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का चल रहा विरोध प्रदर्शन खत्म नहीं हो रहा है। किसान तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं। बीते करीब सात महीनों से किसानों का प्रदर्शन जारी है। अपनी मांगों को लेकर किसानों का जज्बा बिल्कुल कम नहीं हुआ है। वे अब भी तीनों कानूनों को वापस लिए जाने की मांग पर अड़े हुए हैं।

पढ़ें :- Kisan Andolan: 5 सितंबर को महापंचायत में बनेगी आर-पार की रणनीति, राकेश टिकैत ने कहा-ज्यादा से ज्यादा पहुंचे किसान
Jai Ho India App Panchang

इसी क्रम में आज देशभर में किसान राज्यपाल को अपना ज्ञापन सौपेंगे। इसको लेकर किसान राजभवन पहुंचने लगे हैं। भारतीय किसान यूनियन की युवा इकाई के अध्यक्ष गौरव टिकैत ने कहा कि हम देश भर में शांतिपूर्ण ढंग से राज्यपालों से भेंट कर उन्हें ज्ञापन सौंपेंगे। उधर, किसानों की ट्रैक्टर रैली की घोषणा के बाद से दिल्ली के कई इलाकों में भारी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है।

जगह-जगह पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजान किए गए हैं। बता दें कि, किसानों का लखनऊ में भी विरोध प्रदर्शन जारी है। किसान नेता राजेश सिंह चौहान ने बताया कि एक साल से देश में अघोषित आपातकाल लगा है। इसके विरोध में हम आज राज्यपाल के जरिये राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपेंगे क्योंकि किसानों का गेहूं मंडियों में सड़ रहा है।

 

पढ़ें :- Monsoon session: नए कृषि कानूनों के खिलाफ ट्रैक्टर चलाकर संसद भवन पहुंचे राहुल गांधी, किसानों का किया समर्थन
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...