चाहकर भी भोजपुरी में शपथ नहीं ले पाये सांसद रवि किशन, ट्वीट कर कही यह बात

ravi kishan
चाहकर भी भोजपुरी में शपथ नहीं ले पाये सांसद रवि किशन, ट्वीट कर कही यह बात

नई दिल्ली। गोरखपुर से नवनिर्वाचित सांसद रवि किशन सत्रहवीं लोकसभा में चाहकर भी भोजपुरी में शपथ नहीं ले पाए। इसको लेकर उन्होंने एक ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि, ‘ 17वीं लोकसभा में शपथ ग्रहण के दौरान चाहकर भी भोजपुरी में शपथ नहीं ली जा सकी। संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल नहीं पूर्वांचल गौरव और सम्मान की भाषा भोजपुरी इसे संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल करने के लिए प्रयास करूंगा।’

Even If You Did Not Take Oath In Bhojpuri Mp Ravi Kishan :

दरअसल, बीते सोमवार को संसद में नवनिर्वाचित लोकसभा सदस्यों का शपथ ग्रहण हो रहा था। इस मौके पर प्रधानमंत्री समेत सभी अन्य सदस्य अपनी-अपनी भाषाओं में शपथ ग्रहण कर रहे थे। सदस्यों में किसी ने हिन्दी, अंग्रेजी व अपनी क्षेत्रीय भाषा में शपथ ग्रहण की लेकिन इस मौके पर भोजपुरी में शपथ लेने की तैयारी का मन बनाये सदस्यों को निराशा हाथ लगी। उन्हें भोजपुरी में शपथ ग्रहण करने से रोक दिया गया।

बता दें कि संविधान की आठवीं अनुसूची में भोजपुरी भाषा शामिल नहीं है। ऐसे में कोई सदस्य भोजपुरी में शपथ नहीं ले सकता। जिन भाषा में सांसदों ने शपथ ली वे सभी अनुसूची में शामिल हैं। गौरतलब है कि महाराजगंज से भाजपा सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल और राजीव प्रताप रूडी भी भोजपुरी में शपथ लेना चाहते थे लेकिन रवि किशन समेत तीनों ने हिन्दी में ही शपथ ली।

नई दिल्ली। गोरखपुर से नवनिर्वाचित सांसद रवि किशन सत्रहवीं लोकसभा में चाहकर भी भोजपुरी में शपथ नहीं ले पाए। इसको लेकर उन्होंने एक ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि, ' 17वीं लोकसभा में शपथ ग्रहण के दौरान चाहकर भी भोजपुरी में शपथ नहीं ली जा सकी। संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल नहीं पूर्वांचल गौरव और सम्मान की भाषा भोजपुरी इसे संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल करने के लिए प्रयास करूंगा।' https://twitter.com/ravikishann/status/1140790609264988161 दरअसल, बीते सोमवार को संसद में नवनिर्वाचित लोकसभा सदस्यों का शपथ ग्रहण हो रहा था। इस मौके पर प्रधानमंत्री समेत सभी अन्य सदस्य अपनी-अपनी भाषाओं में शपथ ग्रहण कर रहे थे। सदस्यों में किसी ने हिन्दी, अंग्रेजी व अपनी क्षेत्रीय भाषा में शपथ ग्रहण की लेकिन इस मौके पर भोजपुरी में शपथ लेने की तैयारी का मन बनाये सदस्यों को निराशा हाथ लगी। उन्हें भोजपुरी में शपथ ग्रहण करने से रोक दिया गया। बता दें कि संविधान की आठवीं अनुसूची में भोजपुरी भाषा शामिल नहीं है। ऐसे में कोई सदस्य भोजपुरी में शपथ नहीं ले सकता। जिन भाषा में सांसदों ने शपथ ली वे सभी अनुसूची में शामिल हैं। गौरतलब है कि महाराजगंज से भाजपा सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल और राजीव प्रताप रूडी भी भोजपुरी में शपथ लेना चाहते थे लेकिन रवि किशन समेत तीनों ने हिन्दी में ही शपथ ली।