जाम से हर रोज सोनौली में लोग हलकान,भीषण गर्मी में फसे रहे यात्रियों का हुआ बुरा हाल

IMG-20190616-WA0033

महराजगंज:: सोनौली के लोगों और हर रोज उस रास्ते नेपाल आने-जाने वाले यात्रियों तथा पर्यटकों का जाम में फंस कर हलकान होना उनकी नियति बन गयी है ।

Everyday People In Sonauli Every Day From The Jam :

यह समस्या अब इतना गंभीर रुप धारण कर चुकी है कि इस छोटे से कस्बे में ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण की समस्या दिनों दिन गंभीर होती चली जा रही है। रविवार छुट्टी के दिन निकले सैकड़ो भारतीय पर्यटक भीषण गर्मी में जाम में फस कर परेशान दिखे।

सोनौली है तो एक छोटा सा कस्बा लेकिन इसका महत्व नेपाल सीमा के कारण अंर्राष्ट्रीय है। इस रास्ते हर रोज सैकड़ों माल वाहक ट्रकें भारत से माल लेकर नेपाल जाती और वहां से वापस लौटती हैं। दर्जनों टूरिस्ट बसें भी इसी रास्ते काठमांडू और पोखरा को आती जाती हैं। इसके अलावा लगभग हर रोज करीब तीन सौ चार पहिया वाहन नेपाल जाती आती है। जीपें, मिनी ट्रकें, मोटर साइकिलें और रिक्शा कितने आते जाते हैं, इसकी तो गणना करनी ही कठिन हैं। ये सभी वाहन कस्बे की एक सड़क से होकर गुजरते हैं।

इसी सड़क पर उनको चेक करने के लिये कस्टम, इमीग्रेशन, पुलिस और एसएसबी के बैरियर है। हर बैरियर वाहनों को रोका जाना लाजिमी है। लेकिन इसका परिणाम यह होता है कि नो मेंस लैंड से लेकर पीछे टैक्सी स्टैंड और कभी कभी तो कोतवाली तक इतना लम्बा जाम लग जाता है कि वाहनों में बैठे लोग तड़फड़ाने लगते हैं।

बहुतों की ट्रेन छूट जाती है और बहुत से लोगों कोतवाली से माथे पर गठरी लादे पैदल आते देखा जाता है। इससे भी गंभीर समस्या बढ़ता घ्वनि और वायु प्रदूषण है। इसके चलते कतिपय लोगों में ऊंचा सुनने की शिकायत पैदा हो गई है।

उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल सोनौली अध्यक्ष अजय सिंह ने कहा कि प्रदूषण से श्वांस लेने में दिक्कत हो रही है। कपड़ा एवं दवा व्यवसायी सुधीर कुमार ने कहा कि घूल इतनी उड़ रही है कि यदि कमरों को बंद न रखा जाय तो विस्तर और कपड़े धूल में सन जा रहे हैं।

व्यवसायी मोहन सिंधी, धर्मेंद्र कुमार, पवन कुमार, मोहम्मद आलम, जगदीश प्रसाद का कहना है कि इसका कुछ कारण लोगों द्वारा ट्रैफिक नियमों का पालन न करना तथा रिक्शा वालों का दायें बायें से निकलने का प्रयास करना भी है लेकिन इस समस्या का समाधान किया जाना बहुत जरुरी है।

उक्त सम्बन्ध में चौकी प्रभारी विनोद कुमार राय ने कहा कि सड़क के बीच एक माल वाहक ट्रक के खराब हो जाने के कारण जाम लगा हुआ था जिसे हटवा दिया गया है।

महराजगंज:: सोनौली के लोगों और हर रोज उस रास्ते नेपाल आने-जाने वाले यात्रियों तथा पर्यटकों का जाम में फंस कर हलकान होना उनकी नियति बन गयी है । यह समस्या अब इतना गंभीर रुप धारण कर चुकी है कि इस छोटे से कस्बे में ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण की समस्या दिनों दिन गंभीर होती चली जा रही है। रविवार छुट्टी के दिन निकले सैकड़ो भारतीय पर्यटक भीषण गर्मी में जाम में फस कर परेशान दिखे। सोनौली है तो एक छोटा सा कस्बा लेकिन इसका महत्व नेपाल सीमा के कारण अंर्राष्ट्रीय है। इस रास्ते हर रोज सैकड़ों माल वाहक ट्रकें भारत से माल लेकर नेपाल जाती और वहां से वापस लौटती हैं। दर्जनों टूरिस्ट बसें भी इसी रास्ते काठमांडू और पोखरा को आती जाती हैं। इसके अलावा लगभग हर रोज करीब तीन सौ चार पहिया वाहन नेपाल जाती आती है। जीपें, मिनी ट्रकें, मोटर साइकिलें और रिक्शा कितने आते जाते हैं, इसकी तो गणना करनी ही कठिन हैं। ये सभी वाहन कस्बे की एक सड़क से होकर गुजरते हैं। इसी सड़क पर उनको चेक करने के लिये कस्टम, इमीग्रेशन, पुलिस और एसएसबी के बैरियर है। हर बैरियर वाहनों को रोका जाना लाजिमी है। लेकिन इसका परिणाम यह होता है कि नो मेंस लैंड से लेकर पीछे टैक्सी स्टैंड और कभी कभी तो कोतवाली तक इतना लम्बा जाम लग जाता है कि वाहनों में बैठे लोग तड़फड़ाने लगते हैं। बहुतों की ट्रेन छूट जाती है और बहुत से लोगों कोतवाली से माथे पर गठरी लादे पैदल आते देखा जाता है। इससे भी गंभीर समस्या बढ़ता घ्वनि और वायु प्रदूषण है। इसके चलते कतिपय लोगों में ऊंचा सुनने की शिकायत पैदा हो गई है। उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल सोनौली अध्यक्ष अजय सिंह ने कहा कि प्रदूषण से श्वांस लेने में दिक्कत हो रही है। कपड़ा एवं दवा व्यवसायी सुधीर कुमार ने कहा कि घूल इतनी उड़ रही है कि यदि कमरों को बंद न रखा जाय तो विस्तर और कपड़े धूल में सन जा रहे हैं। व्यवसायी मोहन सिंधी, धर्मेंद्र कुमार, पवन कुमार, मोहम्मद आलम, जगदीश प्रसाद का कहना है कि इसका कुछ कारण लोगों द्वारा ट्रैफिक नियमों का पालन न करना तथा रिक्शा वालों का दायें बायें से निकलने का प्रयास करना भी है लेकिन इस समस्या का समाधान किया जाना बहुत जरुरी है। उक्त सम्बन्ध में चौकी प्रभारी विनोद कुमार राय ने कहा कि सड़क के बीच एक माल वाहक ट्रक के खराब हो जाने के कारण जाम लगा हुआ था जिसे हटवा दिया गया है।