असम में सेना के रिटायर्ड अफसर को 30 साल बाद बताया बांग्लादेशी नागरिक

azmal-haque-army-jco_650x400_81506836354

गुवाहाटी: असम में सेना के एक रिटायर्ड अफसर को 30 साल देश की सेवा करने के बाद अजीब स्थिति का सामना करना पड़ रहा है. मोहम्मद अजमल हक नाम के इस रिटायर्ड जेसीओ के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है. इन पर अवैध रूप से भारत में रहने का आरोप लगाया गया है और इन्हें बंग्लादेश का अवैध प्रवासी बताया गया है.

अब इस मामले की सुनवाई विदेशी मामलों की ट्राइब्यूनल में 13 अक्टूबर को होनी है. खास बात ये है कि तीन साल पहले इनकी पत्नी पर भी ऐसा ही आरोप लगाकर नोटिस भेजा गया था, लेकिन जांच के बाद आरोपों को सही नहीं पाया गया.

{ यह भी पढ़ें:- जानिए असम में क्या है मौलाना बदरुद्दीन अजमल की राजनीतिक हैसियत }

हक ने कहा कि अगर मैं अवैध बांग्लादेशी प्रवासी हूं तो फिर मैंने भारतीय सेना में कैसे अपनी सेवा दी. मैं बहुत दुखी हूं. 30 साल देश की सेवा करने का मुझे ये इनाम मिला है. मेरी पत्नी को भी इसी तरीके से प्रताड़ित किया गया था.

इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं.

{ यह भी पढ़ें:- हनी ट्रैप में फंसा लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक का अधिकारी, जबलपुर में दफ्तर सील }

गुवाहाटी: असम में सेना के एक रिटायर्ड अफसर को 30 साल देश की सेवा करने के बाद अजीब स्थिति का सामना करना पड़ रहा है. मोहम्मद अजमल हक नाम के इस रिटायर्ड जेसीओ के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है. इन पर अवैध रूप से भारत में रहने का आरोप लगाया गया है और इन्हें बंग्लादेश का अवैध प्रवासी बताया गया है. अब इस मामले की सुनवाई विदेशी मामलों की ट्राइब्यूनल में 13 अक्टूबर को होनी है. खास बात…
Loading...