17 साल बाद आज खास से आम हो रहे अखिलेश यादव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 17 साल बाद खास से आम होने जा रहे है। दरअसल शनिवार को उत्तर प्रदेश विधान परिषद में अखिलेश यादव का आखिरी दिन है। बता दें कि वर्ष 2000 में कन्नौज से अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले अखिलेश यादव के अब किसी भी सदन के सदस्य नही है। कार्यकाल समाप्त होने के बाद अब अब अखिलेश यादव एक आम राजनीतिक कार्यकर्ता ही बचे है।

Ex Cm Akhilesh Yadav Becomes A Normal Person From Today :

बता दें कि अब अखिलेश यादव का आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी की नैय्या को पार लगाना है। भाजपा के विजय रथ को रोंकने के लिए अखिलेश यादव अब अपनी पूरी ताकत झोंकने में लगे हैं। अखिलेश यादव ने पहले ही ऐलान कर दिया था कि आगामी लोकसभा चुनाव में वो पत्नी की सीट कन्नौज से चुनाव लड़ेंगे।

बता दें कि शनिवार को अखिलेश यादव के साथ ही 12 विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इनमें अखिलेश यादव के करीबी राजेंद्र चौधरी, सुनील कुमार चित्तौड़, एसपी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश चंद्र उत्तम, मधु गुप्ता, उमर अली खान, चौधरी मुस्ताक, राम सकल गुर्जर, डॉ. विजय प्रताप, डॉ. विजय यादव, डॉ. महेंद्र कुमार सिंह और मोहसिन रजा शामिल हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 17 साल बाद खास से आम होने जा रहे है। दरअसल शनिवार को उत्तर प्रदेश विधान परिषद में अखिलेश यादव का आखिरी दिन है। बता दें कि वर्ष 2000 में कन्नौज से अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले अखिलेश यादव के अब किसी भी सदन के सदस्य नही है। कार्यकाल समाप्त होने के बाद अब अब अखिलेश यादव एक आम राजनीतिक कार्यकर्ता ही बचे है। बता दें कि अब अखिलेश यादव का आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी की नैय्या को पार लगाना है। भाजपा के विजय रथ को रोंकने के लिए अखिलेश यादव अब अपनी पूरी ताकत झोंकने में लगे हैं। अखिलेश यादव ने पहले ही ऐलान कर दिया था कि आगामी लोकसभा चुनाव में वो पत्नी की सीट कन्नौज से चुनाव लड़ेंगे। बता दें कि शनिवार को अखिलेश यादव के साथ ही 12 विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इनमें अखिलेश यादव के करीबी राजेंद्र चौधरी, सुनील कुमार चित्तौड़, एसपी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश चंद्र उत्तम, मधु गुप्ता, उमर अली खान, चौधरी मुस्ताक, राम सकल गुर्जर, डॉ. विजय प्रताप, डॉ. विजय यादव, डॉ. महेंद्र कुमार सिंह और मोहसिन रजा शामिल हैं।