1. हिन्दी समाचार
  2. पूर्व IAS अफसर जो बिना नाम और परिचय बताये बन गया गरीबों का मसीहा

पूर्व IAS अफसर जो बिना नाम और परिचय बताये बन गया गरीबों का मसीहा

Ex Ias Officer Who Became A Messiah Of The Poor Without Mentioning His Name And Introduction

लखनऊ। कोरोना महामारी को लेकर देश में हर तरफ संकट का माहौल है, देश में एक लाख से ज्यादा संक्रमित हो गये हैं और संख्या लगातार बढ़ती चली जा रही है। हालांकि केन्द्र सरकार और राज्य सरकारें हर तरह से लोगों की मदद करने की कोशिश कर रही हैं लेकिन अभी भी गरीब मजदूर दो वक्त की रोटी के लिए मोहताज नजर आ रहा है। खासकर प्रवासी मजदूरों को सबसे ज्यादा दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में राह चलते उनकी कोई मदद कर देता है तो वो उनके लिए मसीहा बन जाता है। इस संकट की घड़ी में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने सीमित संसाधनों से दिन-रात समाज हित में अपना पूर्ण योगदान दे रहे हैं। साथ ही संकट की इस घड़ी में दूत बनकर एक सच्चे हिंदुस्तानी सिपाही की तरह अपना कर्तव्य निभा रहे हैं।

पढ़ें :- गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या: राष्ट्रपति ने कहा-सैनिकों की बहादुरी पर हम सभी देशवासियों को गर्व है

वहीं एक ऐसे भी आईएएस अधिकारी है, जो अपना बिना नाम और परिचय बताये ही इस महामारी में इन गरीबो, मजदूरों के मददगार साबित हो रहे है, इनका नाम देवेंद्र चौधरी है। देवेन्द्र चौधरी अपने हाथों से रोज लोहिया पथ पर 200 गरीब मजदूरों को लंच पैकेट देते है। साथ ही वो अब तक 1000 चप्पलें भी गरीबो को बांट चुके है। बता दें कि वर्तमान में देवेंद्र चौधरी कैट (CAT) जज, उत्तर प्रदेश सेंट्रल ट्रिब्यूनल में है। ऐसे आईएएस अफसर से लोगों को सिख लेनी चाहिए।

पढ़ें :- गूगल की Gmail यूर्जस को चेतावनी, शर्तें और नियम ना मानने पर बन्द हो जाएंगी ये सुविधायें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...