गरीबों का दर्द नहीं समझते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी: मनमोहन सिंह

Manmohan-Singh
गरीबों का दर्द नहीं समझते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी: मनमोहन सिंह

सूरत। गुजरात विधानसभा चुनाव के बीच प्रचार के लिए सूरत पहुंचे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने केवल सूरत में ही 31,000 लोगों का रोजगार छीन लिया है। जीएसटी एक तरह का कर आतंकवाद है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने फैसलों से गरीबों को हुए दर्द को समझने में असफल रहे हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी कहते हैं कि वह गुजरात और गरीब दोनों को समझते हैं। लेकिन उनके फैसलों को देखकर ऐसा लगाता है कि वह गरीबों के दर्द को समझ नहीं पाए।

{ यह भी पढ़ें:- पीएम ने बाढ़ग्रस्त केरल का किया हवाई सर्वेक्षण, केन्द्र से मिलेगी 500 करोड़ की मदद }

उन्होंने कहा कि गुजरात माहात्मा गांधी और सरदार पटेल की धरती है जिसकी प्रवृति में ही अन्याय के खिलाफ लड़ना है। महात्मा गांधी ने दांडी से नमक पर अंग्रेजों की ओर से लगाए गए कर पर आंदोलन शुरू किया था। आज वैसा ही कुछ जीएसटी के मामले में भी सामने आया। सूरत के टेक्सटाइल कारोबारियों ने ही सबसे पहले जीएसटी को लेकर विरोध दर्ज करवाया था, जिसके बाद पूरा देश जीएसटी के खिलाफ खड़ा हुआ।

{ यह भी पढ़ें:- बाढ़ग्रस्त केरल में 324 की मौत तीन लाख से ज्यादा का रेस्क्यू, पीएम का हवाई दौरा रद्द }

सूरत। गुजरात विधानसभा चुनाव के बीच प्रचार के लिए सूरत पहुंचे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने केवल सूरत में ही 31,000 लोगों का रोजगार छीन लिया है। जीएसटी एक तरह का कर आतंकवाद है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने फैसलों से गरीबों को हुए दर्द को समझने में असफल रहे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी कहते हैं कि वह गुजरात और गरीब दोनों को समझते…
Loading...