30 वोट से हार का सदमा नहीं झेल पाई यह नेता, दे दी जान

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में हाल ही में संपन्न हुए निकाय चुनाव में हारने वाली एक निर्दलीय उम्मीदवार ने हारने के बाद आत्महत्या कर ली। मिली जानकारी के अनुसार तृणमूल कांग्रेस से बागी हुईं 38 वर्षीय सुप्रिया डे 10 साल से कूपप्स कैंप के वार्ड नंबर 1 से पार्षद थीं। नतीजे आए तो कूप्रस की सीट पर उन्हें सिर्फ 30 वोटों से हार मिली। मीडिया खबरों के मुताबिक, नतीजे आने के कुछ घंटों के भीतर नेता ने 35 अलग-अलग तरह की टैबलेट्स खाकर अपनी जान दे दी।

हालांकि खबर ये भी आ रही थी कि वो पार्टी में लौटना चाहती है। वहीं, उनके पति समीर का आरोप है कि सुप्रिया को पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने डराया धमकाया था, जिसकी वजह से वो डिप्रेशन में चल रही थीं। हालांकि, उन्होंने किसी के खिलाफ मामला दर्ज नहीं कराया है। उन्होंने कहा कि वो पार्टी नेतृत्व पर छोड़ते हैं कि संबंधित कार्यकर्ताओं के खिलाफ क्या कारवाई की जाए।

{ यह भी पढ़ें:- मूर्ति विसर्जन रोक पर HC की कड़ी फटकार, ममता बोली- जब तक जीवित हूं, ऐसा करती रहूंगी }

मृतक सुप्रिया के पति समीर के मुताबिक, पत्नी सुप्रिया को सुबह 8:40 बजे पता चला कि वह 30 वोटों से हार गईं हैं, जो ञ्जरूष्ट कैंडिडेट अशोक सरकार को मिले। सुप्रिया को 320 वोट मिले थे जबकि अशोक सरकार को 350 वोट मिले।

{ यह भी पढ़ें:- 'ब्लू व्हेल' का टास्क पूरा करने को पहली मंजिल से कूदा छात्र, लखनऊ में लगाई फांसी }