Exit Polls : हिमाचल और गुजरात में चला मोदी मैजिक, राहुल फिर फेल

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के लिए गुरुवार को हुए दूसरे चरण के मतदान के साथ निर्वाचन की प्रतिक्रिया पूरी होने के साथ सामने आए एग्जिट पोल्स में 22 सालों से गुजरात की सत्तारूढ़ भाजपा को एकबार फिर सत्ता मिलते हुए दिखाया गया है, जबकि गुजरात में अपनी जीत की आस लगाए बैठी कांग्रेस को एकबार फिर नाउम्मीदी हाथ लगती नजर आ रही है। एग्जिट पोल्स में सामने आए आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो कांग्रेस गुजरात में मजबूत होती तो नजर आई है लेकिन यह मजबूती इतनी नहीं दिख रही जो उसे गुजरात की सत्ता में स्थापित कर सके।

Exit Polls Goes With Modi Magic In Himachal And Gujarat :

सामने आए एग्जि​ट पोल्स में गुजरात के साथ—साथ हिमाचल चुनाव के संभावित परिणाम भी सामने आए हैं। भाजपा के लिए गुजरात के साथ हिमाचल में भी बहुमत मिलता नजर आ रहा है। हालांकि हिमाचल में भाजपा की सरकार बनने की उम्मीद तो कांग्रेस को भी है क्योंकि हिमाचल में पिछले कई सालों से ऐसा होता आ रहा है।

एग्जिट पोल के माध्यम से सामने आए आंकड़ों पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही अपने तरह की प्रतिक्रियाएं दीं हैं। हालांकि दोनों ही दल 18 दिसंबर को आने वाले चुनाव परिणामों से पहले किसी तरह की संभावना को स्वीकार करने को तैयार नहीं है।

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के लिए गुरुवार को हुए दूसरे चरण के मतदान के साथ निर्वाचन की प्रतिक्रिया पूरी होने के साथ सामने आए एग्जिट पोल्स में 22 सालों से गुजरात की सत्तारूढ़ भाजपा को एकबार फिर सत्ता मिलते हुए दिखाया गया है, जबकि गुजरात में अपनी जीत की आस लगाए बैठी कांग्रेस को एकबार फिर नाउम्मीदी हाथ लगती नजर आ रही है। एग्जिट पोल्स में सामने आए आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो कांग्रेस गुजरात में मजबूत होती तो नजर आई है लेकिन यह मजबूती इतनी नहीं दिख रही जो उसे गुजरात की सत्ता में स्थापित कर सके। सामने आए एग्जि​ट पोल्स में गुजरात के साथ—साथ हिमाचल चुनाव के संभावित परिणाम भी सामने आए हैं। भाजपा के लिए गुजरात के साथ हिमाचल में भी बहुमत मिलता नजर आ रहा है। हालांकि हिमाचल में भाजपा की सरकार बनने की उम्मीद तो कांग्रेस को भी है क्योंकि हिमाचल में पिछले कई सालों से ऐसा होता आ रहा है। एग्जिट पोल के माध्यम से सामने आए आंकड़ों पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही अपने तरह की प्रतिक्रियाएं दीं हैं। हालांकि दोनों ही दल 18 दिसंबर को आने वाले चुनाव परिणामों से पहले किसी तरह की संभावना को स्वीकार करने को तैयार नहीं है।