NHRC ने माना, डर और दहशत के कारण हिंदुआें का कैराना से हुआ पलायन

नई दिल्ली| कैराना पलायन मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) की जो रिपोर्ट सामने आई है वह चौकाने वाली है| रिपोर्ट में बताया गया है कि अपराधियों के डर की वजह से ही कैराना से हिंदुओं का पलायन हुआ| इसमें कहा गया है कि 2013 में मुजफ्फरनगर में हुए दंगों के बाद क्षेत्र में कानून व्यवस्था बदतर हो गई| बड़ी तादाद में हिंदू परिवारों ने धमकियों और बढ़ते अपराध के मद्देनजर पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा|




एनएचआरसी ने अपनी रिपोर्ट में आगे कहा है कि कैराना से सैकड़ों परिवार पलायन कर चुके हैं| कैराना का आबादी अनुपात बदला है| अल्पसंख्यक हिन्दू महिलाओं के साथ बहुसंख्यक मुस्लिम युवकों की छेड़छाड़ यहां आम घटना है| एनएचआरसी के मुताबिक, आए दिन मिलने वाली धमकियों से घबरा कर 2 पेट्रोल पंप समेत कई और व्यापार भी बंद हुए है|

एनएचआरसी ने हिंदुओं के साथ हुए कत्ल जैसे अपराधों में भी पुलिस की कार्रवाई को लचर बताया है| आयोग ने बताया कि शामली और कैराना के जिलाधिकारी और एसपी कई मौकों पर पुलिस फोर्स भी नहीं मुहैया करा सके| इससे दोनों समुदायों के बीच तनाव बढ़ा और कमजोर पक्ष पलायन करने पर मजबूर हुआ| इस दौरान पुलिस ने लापरवाही बरती, इसलिए अपराधियों के हौसले बुलंद हो गए। इस दौरान 364 परिवारों और लोगों ने खासतौर पर तीन रिहायशी इलाकों से पलायन किया|

एनएचआरसी ने यूपी के डीजीपी और चीफ सिक्रेट्री से 8 हफ्ते में एक्शन टेकन रिपोर्ट मांगी है| इससे पहले एनएचआरसी ने यूपी सरकार को कैराना पलायन के मुद्दे पर नोटिस भी जारी किया था|

Loading...