कश्‍मीर पर सवाल उठाने वाली US कांग्रेस की प्रमिला जयपाल से नहीं मिलेंगे विदेश मंत्री एस जयशंकर 

S Jaishankar
 कश्‍मीर पर सवाल उठाने वाली US कांग्रेस की प्रमिला जयपाल से नहीं मिलेंगे विदेश मंत्री एस जयशंकर 

नई दिल्ली। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिकी कांग्रेेस की सदस्य प्रमिला जयपाल के साथ अपनी बैठक रदृद कर दी है। विदेश मंत्री ने कहा है कि उन्हें भारतीय-अमेरिकी कांग्रेसियों से मिलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। प्रमिला जयपाल भारतीय मूल की अमेरिकी कांग्रेस की सदस्‍य हैं। जयपाल ने कश्‍मीर के हालात का मामला अमेरिकी कांग्रेस में उठाया है।

External Affairs Minister S Jaishankar Will Not Meet Pramila Jaipal Of Us Congress Who Questions Kashmir :

विदेश मंत्री जयशंकर ने जयपाल की कश्‍मीर रिपोर्ट पर टिप्‍पणी करते हुए कहा कि यह पूरे हालात की स‍ही तस्‍वीर नहीं पेश करती है। इस समय यह रिपोर्ट प्रतिनिधि सभा में बहस के लिए है। बता दें कि कश्मीर से प्रतिबंध हटाने के लिए अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने संसद में प्रस्ताव पेश कर रखा है। इस प्रस्ताव का पिछले काफी दिनों से अमेरिका में विरोध हो रहा है। यही नहीं इस विरोध में भारतीय अमेरिकन के समूह ने उनके दफ्तर के बाहर शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन भी कर चुका है।

जयपाल इस प्रस्ताव के जरिए हिरासत में लिए गए लोगों को छोड़ने और कश्‍मीर में संचार शुरु करने की मांग कर रही हैं। इस प्रस्ताव में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों को काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करने की शर्त भारत सरकार को कड़ी नहीं करनी चाहिए। उन्हें रिहा करने के लिए जिन बॉन्ड्स पर साइन कराया जा रहा है, उनमें भाषण और राजनीतिक क्रिया-कलापों को रोकने की शर्त नहीं होनी चाहिए। यही नहीं ऐसा दावा पेश किया जा रहा है कि इस प्रस्ताव में लोगों को कई शर्तों के साथ रिहा किया जा रहा है।

प्रमिला जयापाल ने जो प्रस्ताव पेश किया है। उसे सिर्फ रिपब्लिकन सांसद स्टीव वाटकिंस का समर्थन मिला है। यह साधारण प्रस्ताव है, जिस पर सीनेट में वोटिंग नहीं हो सकने की जानकारी सामने आई है और न ही इसे लागू करने के लिए कोई दबाव बनाया जा सकता है।

नई दिल्ली। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिकी कांग्रेेस की सदस्य प्रमिला जयपाल के साथ अपनी बैठक रदृद कर दी है। विदेश मंत्री ने कहा है कि उन्हें भारतीय-अमेरिकी कांग्रेसियों से मिलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। प्रमिला जयपाल भारतीय मूल की अमेरिकी कांग्रेस की सदस्‍य हैं। जयपाल ने कश्‍मीर के हालात का मामला अमेरिकी कांग्रेस में उठाया है। विदेश मंत्री जयशंकर ने जयपाल की कश्‍मीर रिपोर्ट पर टिप्‍पणी करते हुए कहा कि यह पूरे हालात की स‍ही तस्‍वीर नहीं पेश करती है। इस समय यह रिपोर्ट प्रतिनिधि सभा में बहस के लिए है। बता दें कि कश्मीर से प्रतिबंध हटाने के लिए अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने संसद में प्रस्ताव पेश कर रखा है। इस प्रस्ताव का पिछले काफी दिनों से अमेरिका में विरोध हो रहा है। यही नहीं इस विरोध में भारतीय अमेरिकन के समूह ने उनके दफ्तर के बाहर शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन भी कर चुका है। जयपाल इस प्रस्ताव के जरिए हिरासत में लिए गए लोगों को छोड़ने और कश्‍मीर में संचार शुरु करने की मांग कर रही हैं। इस प्रस्ताव में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों को काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करने की शर्त भारत सरकार को कड़ी नहीं करनी चाहिए। उन्हें रिहा करने के लिए जिन बॉन्ड्स पर साइन कराया जा रहा है, उनमें भाषण और राजनीतिक क्रिया-कलापों को रोकने की शर्त नहीं होनी चाहिए। यही नहीं ऐसा दावा पेश किया जा रहा है कि इस प्रस्ताव में लोगों को कई शर्तों के साथ रिहा किया जा रहा है। प्रमिला जयापाल ने जो प्रस्ताव पेश किया है। उसे सिर्फ रिपब्लिकन सांसद स्टीव वाटकिंस का समर्थन मिला है। यह साधारण प्रस्ताव है, जिस पर सीनेट में वोटिंग नहीं हो सकने की जानकारी सामने आई है और न ही इसे लागू करने के लिए कोई दबाव बनाया जा सकता है।