कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव से 10 लाख की रंगदारी मांगी गयी, पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

a

लखनऊ। हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव से 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगें जाने का मामला सामने आया है। राजू श्रीास्तव का कहना है कि ब्लैकमेलर खुद को समाजवादी पार्टी का कार्यकर्ता बताता है। आरोपी ने धमकी दी कि उसके पास उनकी और एक महिला के निजी पलों का वीडियो है। वह इसे वायरल करने की धमकी देकर रुपयों की मांग कर रहा है। इस सम्बंध में राजू ने डीजीपी ओपी सिंह को प्रार्थना पत्र भेजकर शिकायत की। डीजीपी के आदेश पर हजरतगंज पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

Extortion Demanded Form Comedian Police Registers Fir :

इंस्पेक्टर हजरतगंज राधारमण सिंह ने बताया कि हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव मौजूदा समय में यूपी फिल्म विकास परिषद के चेयरमैन हैं। उनका ऑफिस मुंबई के अंधेरी वेस्ट स्थित मारीगोल्ड बिल्डिंग में है। राजू ने डीजीपी को भेजे प्रार्थना पत्र में बताया कि राहुल नाम का एक शख्स पिछले तीन महीनों से उन्हें फोन पर ब्लैकमेल कर रहा है। वह खुद को सपा की युवजन सभा का कार्यकर्ता बताता है। राहुल यह कहता है कि उसके पास वर्ष 2013 का एक वीडियो है जिसमें राजू श्रीवास्तव लखनऊ के किसी घर में एक महिला के साथ रोमांस करते हुए दिख रहे हैं।

वीडियो वायरल करने की दी गयी धमकी
वह राजू को धमकी दे रहा है कि यह वीडियो वायरल कर उनका राजनीतिक कैरियर खराब कर देगा। आरोपी ऐसा न करने के नाम पर राजू से 10 लाख रुपयों की मांग की। राजू के मुताबिक फोन पर बातचीत के दौरान राहुल ने उन्हें बताया कि इस ब्लैकमेलिंग में वह महिला और उसका कथित पति मनीष भी शामिल है। रुपये की कमी को पूरा करने के लिए उन लोगों ने उन्हें ब्लैकमेल करने की योजना बनायी है। राजू श्रीवास्तव ने प्रार्थना पत्र में बताया कि आरोपी राहुल जालसाज किस्म का है। उसने एक महिला को धोखा देकर उससे शादी रचा ली थी। इस मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेजा था।

डीजीपी के आदेश पर दर्ज हुई एफआईआर
राजू ने बताया कि फोन पर बातचीत के दौरान उन्होंने राहुल से वह वीडियो उन्हें भेजने के लिए कहा लेकिन हर बार उसने बहाना बनाकर वीडियो नहीं भेजा। राजू श्रीवास्तव का दावा है कि असल में ऐसा कोई वीडियो है ही नहीं और आरोपी मनगढंत कहानी बनाकर उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं। इससे साफ है कि इन लोगों का एक गैंग है जो लोगों को फंसाकर उनसे धन उगाही करता है। डीजीपी ने राजू श्रीवास्तव के प्रार्थना पत्र पर हजरतगंज पुलिस को रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई का आदेश दिया है। अब इस मामले में हजरतगंज पुलिस ने राहुल मनीष व एक अज्ञात महिला के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। राजू श्रीवास्तव ने दो मोबाइल नंबरों का भी जिक्रकिया है। सर्विलांस की मदद से उक्त नंबरों का ब्योरा खंगाला जा रहा है।

लखनऊ। हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव से 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगें जाने का मामला सामने आया है। राजू श्रीास्तव का कहना है कि ब्लैकमेलर खुद को समाजवादी पार्टी का कार्यकर्ता बताता है। आरोपी ने धमकी दी कि उसके पास उनकी और एक महिला के निजी पलों का वीडियो है। वह इसे वायरल करने की धमकी देकर रुपयों की मांग कर रहा है। इस सम्बंध में राजू ने डीजीपी ओपी सिंह को प्रार्थना पत्र भेजकर शिकायत की। डीजीपी के आदेश पर हजरतगंज पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। इंस्पेक्टर हजरतगंज राधारमण सिंह ने बताया कि हास्य कलाकार राजू श्रीवास्तव मौजूदा समय में यूपी फिल्म विकास परिषद के चेयरमैन हैं। उनका ऑफिस मुंबई के अंधेरी वेस्ट स्थित मारीगोल्ड बिल्डिंग में है। राजू ने डीजीपी को भेजे प्रार्थना पत्र में बताया कि राहुल नाम का एक शख्स पिछले तीन महीनों से उन्हें फोन पर ब्लैकमेल कर रहा है। वह खुद को सपा की युवजन सभा का कार्यकर्ता बताता है। राहुल यह कहता है कि उसके पास वर्ष 2013 का एक वीडियो है जिसमें राजू श्रीवास्तव लखनऊ के किसी घर में एक महिला के साथ रोमांस करते हुए दिख रहे हैं। वीडियो वायरल करने की दी गयी धमकी वह राजू को धमकी दे रहा है कि यह वीडियो वायरल कर उनका राजनीतिक कैरियर खराब कर देगा। आरोपी ऐसा न करने के नाम पर राजू से 10 लाख रुपयों की मांग की। राजू के मुताबिक फोन पर बातचीत के दौरान राहुल ने उन्हें बताया कि इस ब्लैकमेलिंग में वह महिला और उसका कथित पति मनीष भी शामिल है। रुपये की कमी को पूरा करने के लिए उन लोगों ने उन्हें ब्लैकमेल करने की योजना बनायी है। राजू श्रीवास्तव ने प्रार्थना पत्र में बताया कि आरोपी राहुल जालसाज किस्म का है। उसने एक महिला को धोखा देकर उससे शादी रचा ली थी। इस मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेजा था। डीजीपी के आदेश पर दर्ज हुई एफआईआर राजू ने बताया कि फोन पर बातचीत के दौरान उन्होंने राहुल से वह वीडियो उन्हें भेजने के लिए कहा लेकिन हर बार उसने बहाना बनाकर वीडियो नहीं भेजा। राजू श्रीवास्तव का दावा है कि असल में ऐसा कोई वीडियो है ही नहीं और आरोपी मनगढंत कहानी बनाकर उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं। इससे साफ है कि इन लोगों का एक गैंग है जो लोगों को फंसाकर उनसे धन उगाही करता है। डीजीपी ने राजू श्रीवास्तव के प्रार्थना पत्र पर हजरतगंज पुलिस को रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई का आदेश दिया है। अब इस मामले में हजरतगंज पुलिस ने राहुल मनीष व एक अज्ञात महिला के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। राजू श्रीवास्तव ने दो मोबाइल नंबरों का भी जिक्रकिया है। सर्विलांस की मदद से उक्त नंबरों का ब्योरा खंगाला जा रहा है।