10 दिन बाद होनी थी शादी, ट्रेन हादसे में बिखर गया पूरा परिवार

Eye Witness Tell About Indore Patna Express Train Accident

कानपुर। इंदौर से पटना जाने वाली इंदौर-पटना एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर जाने पर कानपुर देहात के पुखराया के पास जो दुर्घटना हुई है उसके पीछे रेल पहिया जाम होने की आशंका जताई जा रही है। इस हादसे के बाद कई परिवार बिखर गए है। हादसा इतना खतरनाक था कि कई लोगों के शरीर के टुकड़े हो गए। किसी ने अपनों को खो दिया, तो कोई जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा है। अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक उस रुट पर आने वाली सभी ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है और कई ट्रेनों के रुट बदल दिये गये हैं।




10 दिन बाद है शादी, बिखर गया परिवार—

ट्रेन दुर्घटना में फंसे इंदौर से बनारस आ रहे गुप्ता परिवार में आज से 10 दिन बाद बेटी रूबी की शादी है। रूबी अपने पिता, भाई और छोटी बहन के साथ सफर कर रही थीं लेकिन अब सब अलग हो गए है। रूबी अपने परिवारजनों को अकेले ही ढूढने में लगी हुई है। हादसे को बयां करते हुए एक शख्स ने बताया कि मेरे सामने उज्जैन से एक 3 साल बच्ची बैठी थी जो पूरे रास्ते हंस खेल रही थी लेकिन हादसे के बाद बच्ची के शरीर के दो टुकड़े हो गए।




ये कहना है रूबी का–

रूबी ने बताया कि उनके पिता रामप्रसाद गुप्ता, भाई विशाल, अभिषेक और बहन अर्चना, ख़ुशी के साथ इंदौर से आ रही थी। तभी अचानक रात करीब 3 बजे बहुत तेज आवाज आई और आंख खुल गयी। सामने का मंजर देखकर होश उड़ गये, ट्रेन में लोग एक-दूसरे पर गिरे पड़े हुए थे। करीब 3 घंटे बाद जब आंख खुली तो भाई विशाल, बहन ख़ुशी ही सामने थी जबकि पापा रामप्रसाद, भाई अभिषेक और बहन अर्चना लापता हैं।




इस हादसे के बाद से छोटे भाई विशाल का रो-रोकर बुरा हाल है। विशाला के फ्रैक्चर होने के बावजूद वह अपना दर्द भूल कर पागलों की तरह अपनों को ढूंढ रहा है। रूबी ने मीडिया से गुहार लगाई कि किसी तरह मेरे परिवार को ढूंढ लो।

मलबे से निकालने में की मदद

घटनास्थल पर मिली जानकारी के मुताबिक़ एक शख्स ने कहा कि कुछ लोग मलबे से निकलने की कोशिश कर रहे थे लेकिन निकल नहीं पा रहे थे। तब तक कुछ गांव वाले भी आ गए थे, जिन्होंने मदद की।

भूकम्प जैसी थी घटना

घटनास्थल पर मौजूद लोगों का कहना है कि वहां पर केवल चीख-पुकार सुनाई दे रही थी। एक चश्मदीद ने बताया कि हादसे के वक्त गहरा अंधेरा था, कुछ नजर नहीं आ रहा था, केवल चीख-पुकार सुनाई दे रही थी। हादसे के वक्त ऐसा लगा जैसे भूकंप आ गया हो, अचानक बर्थ पर सो रहे लोग एक-दूसरे पर गिरने लगे।



कानपुर। इंदौर से पटना जाने वाली इंदौर-पटना एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर जाने पर कानपुर देहात के पुखराया के पास जो दुर्घटना हुई है उसके पीछे रेल पहिया जाम होने की आशंका जताई जा रही है। इस हादसे के बाद कई परिवार बिखर गए है। हादसा इतना खतरनाक था कि कई लोगों के शरीर के टुकड़े हो गए। किसी ने अपनों को खो दिया, तो कोई जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा है। अभी तक मिली…