Facebook Data Leak: फेसबुक ने किये कई बड़े बदलाव, अब फ्रेंड्स को सर्च करना होगा मुश्किल 

Facebook Data Leak ,
Facebook Data Leak: फेसबुक ने किये कई बड़े बदलाव, अब फ्रेंड्स को सर्च करना होगा मुश्किल 

ब्रिटेन की डाटा एकत्रित करने वाली कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका से संबंधों की मीडिया रिपोर्टों के बीच सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने बताया कि कल एक बयान जारी कर कहा है कि ‘एग्रीगेटआईक्यू’ ने संभवत : फेसबुक यूजर्स से गलत तरीके से डाटा लिया। इसलिए ‘एग्रीगेटआईक्यू’ तक फेसबुक की तमाम पहुंच खत्म हो जायेगी।  आरोप है कि कैम्ब्रिज एनालिटिका ने चुनावों में प्रभाव डालने के लिये करीब 8.7 करोड़ फेसबुक यूजर्स का डाटा लिया था।

Facebook Data Leak Facebook New Update Feature In Security Reasons :

देखें क्या हुआ बदलाव

अब कंपनी ने यूजर्स के लिए एक बहुत बड़ा बदलाव कर दिया है। दरअसल अब फेसबुक पर अपने दोस्तों को सर्च करना मुश्किल हो गया है। पहले यूजर किसी का मोबाइल नंबर डालकर उसे सर्च कर लेते थे। अब कंपनी ने इस फीचर को बंद कर दिया है। अब यूजर किसी को भी उसके मोबाइल नंबर से सर्च नहीं कर पाएंगे। दरअसल एक ही नाम के कई प्रोफाइल होने के कारण लोग मोबाइल नंबर से फेसबुक पर अपने दोस्तों को सर्च कर रहे थे लेकिन इस फीचर का गलत इस्तेमाल भी हो रहा था। कई अपराधी किस्म के लोग मोबाइल नंबर की मदद से लोगों को फेसबुक पर खोज रहे थे और उनकी जानकारियां जुटाते थे। इसलिए कंपनी ने इस फीचर को अब बंद कर दिया है।

इसके अलावा फेसबुक ने थर्ड पार्टी एप्स के लिए अपनी पॉलिसीज और सख्त की हैं। इन नई पॉलिसीज के तहत कोई भी थर्ड पार्टी एप अब फेसबुक के किसी भी यूजर का धर्म, जाति, ऑफिस या फिर वह शादीशुदा हैं कि नहीं इस तरह की जानकारी नहीं जुटा पाएंगीं। फेसबुक ने इसकी जानकारी अपने ब्लॉग पर साझां की। वहीं एक अन्य ब्लॉग में फेसबुक की ओर से लिखा गया कि अब यूजर खुद ही तय कर पाएंगे कि वे किस तरह के विज्ञापन देखेंगे। ब्‍लॉग में कहा गया है कि फेसबुक विज्ञापन कंपनियों को यूजर की कोई भी जानकारी शेयर नहीं करेगा।

ब्रिटेन की डाटा एकत्रित करने वाली कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका से संबंधों की मीडिया रिपोर्टों के बीच सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने बताया कि कल एक बयान जारी कर कहा है कि ‘एग्रीगेटआईक्यू’ ने संभवत : फेसबुक यूजर्स से गलत तरीके से डाटा लिया। इसलिए ‘एग्रीगेटआईक्यू’ तक फेसबुक की तमाम पहुंच खत्म हो जायेगी।  आरोप है कि कैम्ब्रिज एनालिटिका ने चुनावों में प्रभाव डालने के लिये करीब 8.7 करोड़ फेसबुक यूजर्स का डाटा लिया था।

देखें क्या हुआ बदलाव

अब कंपनी ने यूजर्स के लिए एक बहुत बड़ा बदलाव कर दिया है। दरअसल अब फेसबुक पर अपने दोस्तों को सर्च करना मुश्किल हो गया है। पहले यूजर किसी का मोबाइल नंबर डालकर उसे सर्च कर लेते थे। अब कंपनी ने इस फीचर को बंद कर दिया है। अब यूजर किसी को भी उसके मोबाइल नंबर से सर्च नहीं कर पाएंगे। दरअसल एक ही नाम के कई प्रोफाइल होने के कारण लोग मोबाइल नंबर से फेसबुक पर अपने दोस्तों को सर्च कर रहे थे लेकिन इस फीचर का गलत इस्तेमाल भी हो रहा था। कई अपराधी किस्म के लोग मोबाइल नंबर की मदद से लोगों को फेसबुक पर खोज रहे थे और उनकी जानकारियां जुटाते थे। इसलिए कंपनी ने इस फीचर को अब बंद कर दिया है।इसके अलावा फेसबुक ने थर्ड पार्टी एप्स के लिए अपनी पॉलिसीज और सख्त की हैं। इन नई पॉलिसीज के तहत कोई भी थर्ड पार्टी एप अब फेसबुक के किसी भी यूजर का धर्म, जाति, ऑफिस या फिर वह शादीशुदा हैं कि नहीं इस तरह की जानकारी नहीं जुटा पाएंगीं। फेसबुक ने इसकी जानकारी अपने ब्लॉग पर साझां की। वहीं एक अन्य ब्लॉग में फेसबुक की ओर से लिखा गया कि अब यूजर खुद ही तय कर पाएंगे कि वे किस तरह के विज्ञापन देखेंगे। ब्‍लॉग में कहा गया है कि फेसबुक विज्ञापन कंपनियों को यूजर की कोई भी जानकारी शेयर नहीं करेगा।