1. हिन्दी समाचार
  2. कांग्रेस के आरोपों को फेसबुक ने नकारा कहा हमारा प्लेटफॉर्म गैर-पक्षपाती है

कांग्रेस के आरोपों को फेसबुक ने नकारा कहा हमारा प्लेटफॉर्म गैर-पक्षपाती है

By सोने लाल 
Updated Date

Facebook Denies Congress Allegations Saying Our Platform Is Non Partisan

नई दिल्ली। कांग्रेस के पर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में फेसबुक पर भाजपा के साथ सांठगांठ का आरोप लगाते हुए कंपनी के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को पत्र लिखा था। वहीं, अब उस पत्र का फेसबुक ने जवाब दिया है। फेसबुक ने कहा है कि हम गैर-पक्षपाती हैं और यह सुनिश्चित करने का प्रयास करते हैं कि हमारे प्लेटफॉर्म एक ऐसी जगह बना रहे जहां लोग खुद को पूर्ण रूप से स्वतंत्रता व्यक्त करते हैं। हम पूर्वाग्रह के आरोपों को गंभीरता से लेते हैं और सभी रूपों में घृणा और कट्टरता की निंदा करते हैं।

पढ़ें :- Weather Update : यूपी के इन 20 जिलों में बारिश के आसार

वहीं, कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को चिट्ठी लिखी थी। इसमें वॉल स्ट्रीट जर्नल के आलेख का जिक्र किया गया। वेणुगोपाल ने कहा कि फेसबुक इंडिया की कर्मचारी अंखी दास ने चुनाव संबंधी कार्यों में भाजपा सरकार को मदद पहुंचाई थी। ऐसे में कांग्रेस फेसबुक इंडिया ऑपरेशन की जांच की मांग करती है। वेणुगोपाल ने कहा था कि इस मामले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए और इसकी रिपोर्ट सबके सामने आनी चाहिए। उन्होंने कहा था कि तब तक फेसबुक अपनी इंडिया शाखा के लिए एक नई टीम को गठित करे।

पत्र में इस मामले का हवाला देते हुए वेणुगोपाल ने फेसबुक के संस्थापक से कहा था कि इससे कांग्रेस को बहुत निराशा हुई है। उन्होंने जुकरबर्ग को सुझाव दिया कि फेसबुक मुख्यालय की तरफ से उच्च स्तरीय जांच आरंभ की जाए और एक या दो महीने के भीतर इसे पूरा कर जांच रिपोर्ट कंपनी के बोर्ड को सौंपी जाए। इस रिपोर्ट को सार्वजनिक भी किया जाए।

वेणुगोपाल ने यह आग्रह भी किया था कि जांच पूरी होने और रिपोर्ट सौंपे जाने तक फेसबुक की भारतीय शाखा के संचालन की जिम्मेदारी नई टीम को सौपीं जाए ताकि जांच की प्रक्रिया प्रभावित नहीं हो। गौरतलब है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी इस लेख के हवाले से भाजपा पर हमला बोल चुके हैं। कांग्रेस नेता ने भाजपा और आरएसएस पर आरोप लगाते हुए कहा, इन्होंने फेसबुक और वॉट्सएप पर पूरी तरह से कब्जा कर लिया है। इनका मकसद सोशल मीडिया की मदद से समाज में नफरत घोलना है।

पढ़ें :- मोदी से मदद के सवाल पर बोले चिराग- अगर हनुमान को राम से मदद मांगनी पड़े तो फिर काहे के राम?

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X