1. हिन्दी समाचार
  2. Facebook पर लगा 5 अरब डॉलर का जुर्माना, यूजर्स से बोला था झूठ

Facebook पर लगा 5 अरब डॉलर का जुर्माना, यूजर्स से बोला था झूठ

Facebook Fined 5 Billion Dollar For Privacy Violations In Cambridge Analytica Data Scandal

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। अमेरिकी नियामकों ने सोशल नेटवर्क साइट फेसबुक पर सूचनाओं की निजता संबंधी कानून के उल्लंघन और झूठ बोलने के आरोप में पांच अरब डॉलर का जुर्माना लगाया है। फेसबुक का कहना है कि संघीय व्यापार आयोग (एफटीसी) द्वारा की गई लंबी जांच के बाद कंपनी पर पांच अरब डॉलर का जुर्माना लगा है, जिसका कंपनी भुगतान करेगी। बता दें कि डाटा चोरी मामले में यह किसी कंपनी पर लगने वाला सबसे अधिक जुर्माना है।

पढ़ें :- इस फ़ेस्टिव सीजन हनथो मे लगाएं खूबसूरत मेहंदी की ट्रेंडी डिजाइन्स, ये है आसान तरीका

हालांकि यह अभी भी साफ नहीं है कि भविष्य में ऐसा न हो यह सुनिश्चित करने के लिए फेसबुक पर किस तरह के प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं और इसके लिए किन चीजों की जरूरत होगी। फेसबुक पर 2.7 अरब यूजर हैं। द वाल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार फेसबुक के सीईओ एवं संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को समझौते के क्रियान्वयन के लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा।

फेडरल ट्रेड कमीशन ने फेसबुक पर कानून का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। FTC ने फेसबुक पर कई आरोप लगाए हैं। इन आरोप में फेसबुक पर यूजर्स से झूठ बोलना, प्राइवेसी के साथ समझौता करना और सिक्योरिटी के लिए यूजर द्वारा दिए गए फोन नंबर के जरिए विज्ञापन देना शामिल हैं।फेडरल ट्रेड कमीशन का आरोप है कि फेसबुक ने यूजर से फेशियल रिकॉग्निशन को लेकर भी झूठ बोला है और ये बाई डिफॉल्ट ऑफ नहीं था। FTC ने फेसबुक पर सिर्फ फाइन ही नहीं लगाया है, बल्कि कई चीजें और भी कही हैं।

फेडरल ट्रेड कमीशन ने फेसबुक से कहा है कि कंपनी हर नए प्रॉडक्ट और सर्विस के लिए प्राइवेसी रिव्यू करेगी और ये रिव्यू हर तिमाही में सीईओ और थर्ड पार्टी एसेसर को दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि FTC के इस आदेश के बाद अब फेसबुक को थर्ड पार्टी डेवेलपर्स, जो फेसबुक का डेटा यूज करते हैं उनसे उनका मकसद जानना होगा और इसके लिए सर्टिफिकेशन की भी जरूरत होगी। फेसबुक ने जुर्माना देने के लिए हामी भर दी है।

तीन बड़ी वजहें जिसकी वजह से फेसबुक को देना होगा भारी जुर्माना

पढ़ें :- उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत को SC से राहत, CBI जांच के आदेश पर रोक

1. कैंब्रिज अनलिटिका डेटा ब्रीच।

2. फेसबुक ने यूजर्स से झूठ बोला कि फेशियल रिकॉग्निशन डिफॉल्ट ऑफ है।

3. यूजर्स के फोन नंबर को सिक्योरिटी के लिए मांगा गया और फिर फेसबुक ने फोन नंबर्स को टार्गेट ऐड के लिए इस्तेमाल किया।

क्या है फेडरल ट्रेड कमीशन (FTC)

ये अमेरिका की एक इंडिपेंडेट एजेंसी है जिसे फेडरल ट्रेड कमीशन ऐक्ट के तहत बनाया गया है। मौटे तौर पर समझें तो इस एजेंसी का मकसद कंज्यूमर के हित की रक्षा करना है। FTC कंज्यूमर या कंपनियों द्वारा की गई शिकायत की जांच करने का काम करती है। इनमें फ्रॉड, भ्रामक विज्ञापन शामिल हैं।

पढ़ें :- बुनकरों की समस्याओं को लेकर प्रियंका ने सीएम योगी को लिखा पत्र, कहीं ये बातें...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...